भारत की सबसे युवा पायलेट आएशा अजीज, 16 साल की उम्र में मिल गया था लाईसेंस

तमाम तनाव और भयभीत माहौल होने के बावजूद भी कश्मीर के कुछ बच्चों ने अच्छे परिणाम बेहतर किए है। एक लड़की के लिए सबसे ज्यादा जरूरी होता है कि वो अपने समाज मे चल रही पुरानी प्रथाओं से दूर हटकर एक नए समाज और नई पीढ़ियों के लिए मिसाल कायम करें। आज का दौर लड़कियों के लिए है और उन्हें कुछ करने का जज्बा रखता है ।

आज हम बताने जा रहे है सबसे कम उम्र की मुस्लिम पायलट के बारे में जिन्होंने अपना इतिहास रच है। कश्मीर में पैदा हुए है और मुम्बई में शिफ्ट होने वाले आएशा अजीज सुर्खियों में चल रही है। आएशा टाइम्स ऑफ इंडिया से बात करते हुए बताती है कि बचपन से मेरा सपना था कि मैं पायलट बनू ओर आसमान में अपने सपनो की मंजिलों को तय करूँ।

aaisha aziz news

आएशा ने अब बॉम्बे फ्लाइंग क्लब भी ज्वाइन कर लिया है। आएशा के पिता अब्दुल अजीज एक वर्ली में बिजनेसमैन है। उनका कहना है की अगर मेरी बेटी का सपना कुछ पाने लायक है तो मैं उसका हिस्सा भी बना। मैंने देखा है किवह कैसे अपने सपने को साकार भी करती है।

आएशा को साल 2011 में स्टूडेंट पायलट लाइसेंस मिल गया था। उस समय उसकी उम्र 16 साल थी। लाइसेंस पाने वाली वह युवा स्टूडेंट पायलट बनी। साल 2016 मेंवह बॉम्बेफ्लाइंग क्लब से एविएशन में ग्रेजुएट हुई। साल 2017 में उन्हें कोमशियल लाइसेंस मिल गया।

aaisha aziz news

वह कहती है किजब मैं पहली बार अपने पेरेंइस को बैठाकरएयरक्राफ्ट उड़ा रही थी तो ये मेरे लिए सबसे खुशी का दिन था। वह NASA से एस्ट्रॉन्ट ट्रेनिंग भी ले चुकी है।आएशा इंडियन वूमेन पायलट एसोसिएशन को सदस्य भी है। वह सिंगल इंजन 152 और सेना 172 एयरक्राफ्ट उड़ाने के लिए क्वालिफाइड भी है।

आएशा हमे सुनीता विलियम की याद भी दिलाती है। आएशा की माँ जम्मू कश्मीर के बारामुला की रहने वालों है और पिता मुम्बई में रहते है। आयशा का भाई का कहना है कि मुझे अपनी बहन पर गर्व है। मेरी दुआ है कि वो आगे बढे।

aaisha aziz news

आएशा ऊची उड़ान भरने के सपने भी सजा रही है। आएशा ने कश्मीरियों और भारतीय लड़कियों के लिए मिसाल कायम की है। जो बेहद ही आश्चर्यजनक है।

Leave a Comment