अब्दुल्ला अल रशीदी ने ओलम्पिक में रचा इतिहास, 58 साल की उम्र में जीता पदक, बोले- पेरिस में गोल्ड पर …

उम्र को लेकर हमेशा बहस होती रहती है लेकिन कुछ लोग ऐसे भी होते है जो बहस को दरकिनार करने के लिए ही पैदा होते है। उनके लिए उम्र सिर्फ एक नम्बर है। टोक्यो ओलंपिक में बीते दिनों ही एक ऐसा की कारनामा देखने को मिला है। जिस उम्र में बच्च खिलोने और वीडियो गेम खेलते है।

उसी उम्र में ओलंपिक की स्केटबोर्डिंग रेस में महज 13 साल की बेटियों ने हैरतअंगेज करतब को दिखाकर सवर्ण और रजत पदक पर अपना कब्जा जमाया है। इसके ठीक विपरीत ही 58 साल की उम्र में लोग सन्यास लेकर अपने परिवार के साथ जीवन का आनंद लेने की सोच रखते है। इस पड़ाव पर कुवैत के अब्दुल्ला अल रशीदी ने सटीक निशाना लगते हुए कांस्य पदक जीतकर सभी को चौका दिया है।

abdullah al rashidi

अल रशीदी ने पहली बार 1996 एटलांटा ओलंपिक में भाग भी लिया था। उन्होंने रियो ओलंपिक 2016 में भी कांस्य पदक को जीता था लेकिन उस वक्त स्वंत्र खिलाड़ी के तौर पर उतरे थे क्योंकि कुवैत पर अंतरास्ट्रीय ओलंपिक समिति ने प्रतिबन्ध भी लगा रखा था।

अब कुवैत के लिए खेलेते हुए पदक जीतने के बारे में अल रसीदी ने कहा है कि रियो में पदक से मैं बहुत ही ज्यादा खुश हूं। उन्हीने आगे कहा कि मेरा सर झुका हुआ था क्योंकि यहां मेरे देश का झंडा यहां है।13 साल 330 दिन की मोमोजी सबसे कम उम्र में ओलंपिक

abdullah al rashidi

स्वर्ण पदक जीतने वाली दूसरी खिलाडी बनी है। इससे पहले 1936 में बर्लिन ओलंपिक में 13 साल 268 दिन की उम्र में मार्जारी गेस्ति रंग ने महिलाओ की 3 मीटर स्पिरँगबोर्ड स्पर्धा का स्वर्ण पदक भी जीता था।

Leave a Comment