ऑटो चालक का बेटा अजरुद्दीन बना IAS अफसर, गरीबी में रहकर कठिन परिश्रम कर पिता का सपना किया पूरा

यूपीएससी सिविल सर्विसेज 2019 के नतीजों का ऐलान कर दिया है। इस साल 829 उम्मीदवारों को पास किया गया है । इनमे 304 जनरल के, 78 ईडब्ल्यूएस के , 251 ओबीसी के,129एससी के और 67 उम्मीदवार एसडी के है। वही अगर मुस्लिम उम्मीद वारों की बात करे तो इस साल 44 उम्मीदवारों ने इस इम्तिहान में कामयाबी हासिल की है।

इसके अलावा अगर टॉपर्स की बात करे तो पहले मकाम पर जतिन किशोर और प्रतिभा वर्मा दूसरे नम्बर पर है। कहते है अगर कठोर परिश्रम किया जाए तो ,मन लगाकर पढ़ा जाए जो बड़ी से बड़ी बाधा को दूर किया जा सकता है । देश की सबसे कठिन परीक्षा मानी जाने वाली यूपीएससी में ऑटो रिक्शा चालक के बेटे ने गरीबी में रहकर कड़ी मेहनत करके यूपीएससी को क्लियर किया है ।

azharuddin IAS 2019

वही इस बार अजहरुद्दीन जहीरुद्दीन काजी भी उन लिस्ट में शामिल है जिन्होंने सफलता हासिल की है। महाराष्ट्र के विदर्भ क्षेत्र के यवयमाल क्षेत्र में एक टैक्सी ड्राइवर जहीरूद्दीन काजी का बेटा, अजहरुद्दीन ने इस परीक्षा में 351 वी रैंक हासील की है।अजहरुद्दीन के माता पिता पढ़े लिखे नही है। उनके पिता गैर मेट्रिकुलेट है उनकी मा मेराज ने 10 वी तक पढ़ाई की है ।

उनकी एक बहन ने एमबीबीएस पूरी कर चुकी है। इनका दूसरा भाई भी इंजीनियर है तो तीसरा भाई एक वकील है। अजहरुद्दीन खुद भी हैंडबॉल में नेथनल कलर होल्डर है। यवतमाल से वाणिज्य में ग्रेजुएशन, अजहरुद्दीन को कॉपरेशन बैंक में प्रोबेशनरी ऑफिसर के रूप में चुना गया जहां उन्होंने यूपीएससी के लिए आवेदन करने से पहले 6 साल तक सेवा की है।

azharuddin IAS 2019

बता दे कि अजहरुद्दीन जामिया हमदर्द आवासीय कोचिंग अकादमी से प्रतिष्ठित भर्ती परीक्षा की तैयारी के लिए मुफ्त कोचिंग मिलती है। इसकी परीक्षा सिविल सेवा लिखित परीक्षा 2019 सितंबर में आयोजित की गई थी। इस साल फरवरी से लेकर अगस्त तक इंटरव्यू हुए उसके बाद इसका परिणाम जारी हुआ है।

Leave a Comment