भा’ग’व’त की मॉ’ब लिं’चिं’ग वाली टि’प’ण्णी पर अ’स’दु’द्दीन ओ’वै’सी बोले – दो’षि’यों को माला किसने पहनाई?

मो’ह’न भा’ग’व’त जो रा’ष्ट्री’य स्व’यं’से’व’क सं’घ ची’फ हैं,उन्होंने कुछ दिन पहले मॉ’ब ली’चिं’ग के बयान दिए था. उनके इ’स ब’या’न से अ’स’दु’द्दी’न ओ’वै’सी ने ती’खी प्र’ति’क्रि’या दी है। ओ’वै’सी ने महाराष्ट्र की एक ज’न’स’भा को सम्बोधित करते हुए कहा कि मॉ’ब ली’चिं’ग इतनी हो रही है, कि उस इं’सा’न को बिना व’जह ही मा’र दि’या जाता है। इसके बाद ओ’वै’सी आगे कहते है कि इसे मॉ’ब ली’चिं’ग नही कहा जा’ए तो फिर क्या क’हा जा’ए।

आ’र’ए’स’ए’स के चीफ ने’ता ली’चिं’ग पर रो’क ल’गा’ने की बात न’ही क’र रहे हैं। भा’ग’व’त ने 94 वे स्था’प’ना दि’व’स पर अपनी स्पी’च में कहा कि’ ये श’ब्द प’श्चि’मी क’ल्च’र से जु’ड़ा हु’आ है। उन्होंने ये भी कहा कि इस श’ब्द को भा’र’त पर थो’पा जा रहा हैं। इस वजह से ओ’वै’सी ने प्र’ति’क्रि’या की थी। कुछ ही दिन पहले मॉ’ब ली’चिं’ग के शि’का’र हुए त’ब’रे’ज अं’सा’री को बे’र’ह’मी से पे’ड़ से बां’ध’क’र झा’र”खण्ड में पी’टा गया था , जिसके बाद उसकी मौ’त हो गई थी।

इसके दो’षि’यों को बी’जे’पी मं’त्री ने मा’ला प’हना’क’र उनका स्वा’ग’त कि’या था। इस पर ओ’वै’सी ने ट्वी’ट भी कि’या था। ‘उन्होंने लिखा कि पी’ड़ि’त भा’र’ती’य थे दो’षि’यों को किसने माला प’हनाई? ति’रं’गे में श’व को कि’स’ने ल’पे’टा? ‘ओ’वै’सी ऐसे तो कई ज’न’स’भा’एं करते है लेकिन उन्होंने एक स’भा में कहा कि बी’जे’पी की सरका’र आने से 2014 से ‘मॉ’ब ली’चिं’ग ल’गा’ता’र ब’ढ़ रही हैं।

मो’ह’न भा’ग’व’त ली’चिं’ग की घ’ट’ना’ओं से इ’न’का’र करते है। उन्होंने कहा कि मैं उन लोगो को या’द दिलाना चाहता हूं, कि देश मे ली’चिं’ग तब भी हुई थी जब पूर्व प्र’धा’न’मं’त्री इं’दि’रा गां’धी की ह’त्या के बाद सि’ख स’मु’दा’य को टा’र’गे’ट किया ग’या था। अगर भा’र’त मे मॉ’ब ली’चिं’ग जैसी स’म’स्या न’ही है, तो फिर गु’ज’रा’त मे क्या हुआ था। ओ’वै’सी ने ये सवाल भा’ग’व’त से पूछा ?

उन्होंने कहा कि भा’ग’व’त को गो’ड’से की ह’त्या करने वालो और मा’न’सि’क’ता वाले लो’गो को रो’क’ना चाहिए। त’ब’रे’ज अं’सा’री की ह’त्या मा’न’सि’क’ता के लो’गो ने ही कि हैं। त’ब’रे’ज अं’सा’री की ह’त्या करने वालो को बी’जे’पी के एक नेता ने मा’ला प’ह’ना’क’र उनका स्वा’ग’त किया। ओ’वै’सी ने इस बात का बयान इसलिए किया कि उनका इशारा कें’द्री’य मं’त्री ज’यं’त सिं’ह की ओर था।

उन्होंने झा’र’खं’ड के रा’म’ग’ढ़ में ‘मॉ’ब ली’चिं’ग के दो’षी क’रा’र दिए गए आठ लोगो को ज’मा’न’त मि’ल’ने पर उनका मा’ला प’हना’क’र स्वा’ग’त किया गया। इस घट’ना के बाद वो वि’प’क्ष के नि’शा’ने पर आ गए थे। इनमे एक भा’ज’पा का का’र्य’क’र्ता भी शामिल था। ज’य प्र’का’श जे’ल से सीधे कें”द्री’य मं’त्री के घर पहुँचे। लेकिन बाद में कें’द्री’य मं’त्री ने मा’फी भी मां’गी थी।

Leave a Comment

close