झुठे बर्तन धोने वाले मोहम्मद रियाज़ करेंगे दुनियाभर में देश का नाम रोशन, राष्ट्रपति कोविंद ने पूरा किया सपना …अब भरेगा उड़ान …

देश के निर्माण में युवाओं की भागीदारी को उत्साहित करने की दिशा में कदम उठाते हुए राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने बहुत ही गरीब परिवार से आने वाले 9वी कक्षा में पढ़ रहे रियाज को एक रेसिंग साइकिल में तोहफे में देंने के लिए चुना है। रियाज का सपना एक साइकिलिस्ट बनने का है। वो इसके लिए कड़ी मेहनत भी करता है।

राष्ट्रपति कोविंद ने रियाज को साइकिलिंग रेस में उसके इंटरनेशनल चेम्पियन बनने को लेकर शुभकामनाएं भी दी और खूब मेहनत करने को कहा। रियाज को ये साइकिल 31 जुलाई को दी गई यानी कि ईदुल अजहा से एक दिन पहले जो रियाज के लिए ईदी के बराबर है। बता दे कि रियाज दिल्ली के आनंद बिहार के सर्वोदय बाल विद्यालय का 9वी का छात्र है।

bicycle to riyaz

रियाज मूल रूप से तो बिहार के मधुबनी का रहने वाला है। उसके माता पिता, दो बहनें और एक भाई वही पर रहते है। रियाज गाजियाबाद के महाराजपुर में एक किराए के मकान में रहता है। उसके पिता हलवाई है।ऐसे में आर्थिक मदद के लिए रियाज पढ़ाई करने के बाद एक होटल में बर्तन धोने का काम भी करता है।

रियाज का जुनून साइकिलोंग करना है। 2017 में रियाज ने दिल्ली स्टेट साइकिलिंग चैम्पियनशिप में ब्रॉन्ज मेडल जीता था।गाजियाबाद के डीएम ने बताया है कि रियाज इसके अलावा गुवाहाटी में स्कूल गेम्स इवेंट में भाग लेने भी गया था।

bicycle to riyaz

जहाँ उसने नेशनल लेवल पर चौथा स्थान प्राप्त किया था। उन्होंने इससे प्रेरणा लेते हुए रियाज ने कोच श्री प्रमोद शर्मा से प्रोफेशनल ट्रेनिंग लेनी भी शुरू कर दी है। वो नियमित रूप से इंदिरा ग़ांधी इनडोर स्टेडियम में प्रैक्टिस करता है। ऐसे में ईद के मौके पर राष्ट्रपति ने उसे ईदी में रेसिंग साइकिल दी है।

Leave a Comment