CAA और क’श्मीर मु’द्दे पर बोलने से म’लेशिया को हुआ भारी नु’क’सान, पीएम मो’हम्मद बोले- स’च बोलने से नु’क’सान हो

भारत दुनियाभर में खाद्य तेल का सबसे बड़ा खरीदार है। भारत के कुल खाद्य तेल के आयात में पॉम आयल की हिस्सेदारी दो तिहाई है। भारत सालाना करीब 90 लाख टन पॉम ऑयल का आयात करता है। जिसमें ज्यादातर तेल इंडोनेशिया और मलेशिया से ही आता हैं। इन देशों के अलावा भारत अर्जेंटीना औऱ ब्राजील से सोया तेल और यूक्रेन से सूरजमुखी का तेल भी खरीदता हैं। बीते दिनों मलेशियाई पीएम ने CAA और क’श्मीर मु’द्दे पर बयान दिया था ।

उन्होंने क’श्मी’र से अ’नुच्छे’द 370 हटाने के वि’रो’ध में भी पा’किस्ता’न का साथ दिया था। म’लेशियाई पीएम महातिर मोहम्मद ने कहा था कि भारत ने क’श्मीर पर क’ब्जा कर रखा हैं। इस स’मस्या का स’मा’धान शांति’पूर्ण तरीके से होना चाहिए। इसके अलावा महातिर मोहमम्द ने भारत के ना’गरिक’ता का’नून पर बोलते हुए कहा था कि वो ग’लत चीज़ो के लिए हमेशा बो’लते रहेंगे चाहे उन्हें और उनके देश को नु’क’सान ही क्यो न उ’thना पड़े ।

पिछले कुछ समय से भारत वि’रोधी रु’ख अपनाने वाले मले’शिया के प्रधानमंत्री महातिर मोहम्मद ने कहा है वह भारत के खि’लाफ किसी तरह की जवाबी का’र्यवाई नही करेंगे। दुनि याभर में खाद्य तेल के सबसे बड़े खरीदार भारत ने इसी महीने मलेशिया से तेल के आयात पर रो’क लगा दी थी। इसे महातिर के भारत के नी’तियों के खिलाफ ह’म’ला’व’र होने से जोड़कर देखा जा सकता हैं।

महातिर ने मलेशिया के लंगकावी में संवाददाताओं से बातचीत में कहा कि, हम भारत के खि’लाफ कोई जवाबी कार्यवाही करने के लिए बहुत ही छोटे देश है। हमे इस स’मस्या से बाहर निकलने के लिए दूसरे तरीको और साधनों का इस्तेमाल करना होगा। बता दे भारत पिछले 5 सालों में मलेशिया से खाद्य तेल खरीदने वाला शीर्ष खरीदार है।

अब मलेशिया के लिए तेल बेचना मु’श्किल हो गया हैं। म’लेशिया की अर्थ’व्यवस्था में तेल निर्यात की अहम हिस्सेदारी है।मलेशिया के खाद्य तेल की कीमतों में पिछले सप्ताह करीब 10 फीसदी की गिरा’वट दर्ज की गई थी। जो पिछले 11 सालों में सबसे बड़ी साप्ता’हिक गिरावट भी हैं

Leave a Comment

close