सऊदी सरकार ने सभी को चौकाते हुए दिया चीन को बड़ा झटका, यूजर्स बोले- किंग सलमान है अंतराष्ट्रीय राजनीती के …

को’रो’ना महा’मा’री की वजह से पूरी दुनिया मे कई तरह की परे’शा’नी देखी गई है । को’रो’ना की वजह से तेल की खपत कम हुई है। को’रो’ना की वजह से मांग कम होने से ते’ल की कीमतों में गिरावट देखने को मिली है। सऊदी अरब में तेल को खाने है। सऊदी अरब के लिव ये स्थिति इसलिए भी चुनोतिपूर्ण है क्योकि उसकी अर्थव्यवस्था तेल पर ही आधारित है।दुनिया की सबसे बड़ी कम्पनी अमारको ने भी महाराष्ट्र में भी 44 बिलियन डॉलर के रत्ना’गिति मेगा फाइनरी प्रोजेक्ट में नि’वेश का एलान किया था।

सऊदी अरब ने चीन को एक बड़ा झ’टका दे दिया है। सऊदी अरब की सरकारी तेल कम्पनी ने चीन के साथ 10 अरब डॉलर की रिफाइनिंग और पेट्रोकेमिकल कोप्लेंक्स बनाने को लेकर हुए समझौते से पीछे ह’ट गया है।इकोनॉमिक्स टाइम्स रिपोर्ट के मुताबिक, सऊदी कम्पनी ने तेल की गिरती कीमतों की वजह से चीन के साथ हुई इस डील को टालने के फैसले किया है। बता दे,सोशल मिडिया पर कई यूजर्स का मानना है कि किंग सलमान अंतराष्ट्रीय राजनीती के बाप है .

chin saudi deal cancel

इकोनॉमिक्स टाइम्स ने आगे बताया है कि सऊदी अरब की कम्पनी ने चीन के उत्तर पूर्वी प्रान्त में कोप्लेंक्स में किए जाने वाले निवेश को रोकने का फैसला किया है।सऊदी की कम्पनी को तरफ से अभी तक कोई बयान नही किया गया है और न ही चाइना नॉर्थ इंडस्ट्रीज ग्रुप कोर्पेशन ने भी अभी तक कोई प्रतिक्रिया नही की है।

अमारको कम्पनी बढ़ते कर्ज और कच्चे तेल की कीमतों के मद्देनजर अपनी बची हुई पैसे को खर्च करने से बच रही है। इस कम्पनी से सऊदी का काफी राजस्व हासिल भी होता है।बता दे कि पिछके साल फरवरी में सऊदी के किंग चीन के दौरे ओर भी गए थे जब दोनों देशों ने इस समझौते को लेकर हस्ताक्षर भी किए थे।

chin saudi deal cancel

सऊदी अरब एशिया के बाजारों में अपनी पहुँच को बढ़ाना चाहता है। बता दे कि इन योजना के तहत सऊदी 300,000बैरल प्रति दिन क्षमता वाली रिफाइनरी के लिए70 फीसदी कच्चे तेल की आपूर्ति करने वाला था। इस मामले से जुड़े कई लोगो का कहना है कि सऊदी ओर चीन इस विचार को लेकर दुबारा चर्चा कर सकते है।

Leave a Comment