चीन और तालिबान की बढ़ रही करीबी, पड़ोसीयों के लिए खतरे की घंटी

अफ’गानिस्ता’न में मची उथ’ल पुथ’ल के बीच ता’लिबा’न के एक प्रति’निधिमं’डल बीते दिनों ही ची’न पहुचा है। ची’न देश का दौरा करने वाले ता’लि’बन डेलि’गे’शन ने बीजिं’ग को इस बात की तसल्ली दी है कि वह किसी देश के खि’ला’फ सा’जि’श र’चने के लिए अफगा’नि’स्तान की ज’मीन का इस्तेमाल भी न’ही होने देंगे।

डॉन के मुताबिक बताया गया है कि ‘ता’लि’बा’न के प्रवक्ता मोहम्मद नईम ने कहा है कि गु’ट के नो प्रति”निधि’यो ने चीन के विदेश मंत्रीवांग ई से मुलाकात भी की है और इन दोनों पक्षो ने अफ’गान की शां’ति और सु’र’क्षा के मुद्दों पर भी चर्चा करेंगे। वही वांग यी ने ता’लि’बा’न को अ’फ’गानि’स्ता’न में एक महत्वपूर्ण सै’न्य और

china foreign minister wang yi afghanistan taliban

राज’नी’ति’क ता’कत करा’र भी दिया है। बता दे कि दोहा में ता’लि’बा’न के पोल’टि’कल ऑ’फ़ीस के प्रमुख अब्दुल गनी बरादर के नेतृत्व में प्रति’नि’धिमं’डल ने चीन की राजधानी बीजिंग से लगभग 100 किलोमीटर दक्षिण पूर्व में स्थित तियांजियान में चीनी विदेश मंत्री वंग यी और अन्य अ’धि’कारि’यों से भी मुलकात की है।

चीन के पश्चिमी शिन’जियां’ग क्षे’त्र में सी’मा से स’टे बदख्शां प्रान्त सिहित अफ’गा’निस्ता’न के अन्य हि’स्सों पर कब्जा हासिल करने के बाद ता’लि’बान’ प्र’तिनि’धि’मंड’ल का चीन देश का यह पहला दौरा है। हालांकि ऐसा बिल्कु’ल भी न’ही है कि तालिबा’न के नेताओ की यह पहली चीन यात्रा है। वह पाकि’स्ता’नी की मध्य’स्थता में

china foreign minister wang yi afghanistan taliban

चीन पहले भी ता’लि’बान ने’ताओ की यह पहली चीन यात्रा है। ता’लि’बान के एक मंडल साल 2019 में बीजिंग भी पहुच था। जबकि साल 2015 में चीन में शिनजि’यांग ने प्रांती’य’ रा’जधानी उ’रूमकी शहर में तालि’बा’न और अफ’गान अधिका’रियों के बीच पा’कि’स्तान’ द्वारा आयोजि’त वा’र्ता की मेज’बा’नी भी की थी।

Leave a Comment