बंगाल की हार का ठीकरा कांग्रेस ने मुसलमानों पर फोड़ा ! मुस्लिम पार्टी से बंगाल में तोड़ा नाता, कांग्रेस नेता बोले- भविष्य में कभी …

देश के 5 राज्यो के विधानसभा चुनाव में कांग्रेस की हा’र से उभर’ते अ’स’न्तोष के सुर को थामने के लिए कांग्रेस हाई’क’मान ने इसको समीक्षा के लिए तत्काल एक समिति बनाने का भी एलान किया है। वही पश्चिम बंगाल के कांग्रेस अध्यक्ष रंजन चौधरी ने बीते दिनों ही कहा है कि भ’विष्य में वह इं’डियन सेक्युलर फ्रंट के

साथ किस भी तरह का कोई सम्बन्ध नही रखना चाहते है। ऐसे में इस बात पर सवाल उठता है कि कांग्रेस असम में क्या ऐसे ही बदरुद्दीन अज’मल की पार्टी AIUDF के साथ रुख भी इ’ख्ति’यार करेगी। क्योकि दोनो के साथ गठबं’धन करने का कोई सि’यासी फा’यदा पार्टी को न’ही मिला है।

adhir ranjan chowdhury

गुलाम नबी आजाद ने बंगाल में इंडियन सेक्युलर फ्रंट केसाथ गठबंधन के फैसले पर भी सवाल उ’ठा’या है और कहा है कि चाहे रा’ज्यो के स्तर पर हो या राष्ट्री’य स्तर पर इसको लेकर एक स्प’ष्ठ नी’ति होनी चाहिए। इसी बीच आजा’द ने सवाल उठाया है कि आखिर ISF के साथ गठबंधन कर कांग्रेस

ने लोगों के बीच और राजनीतिक लिहाज से भी ममता बनर्जी के लिए क्या संदेश दिया है। इसी तरह असम में बदरुद्दीन अजमल के पार्टी AIUDF के साथ गठबंधन को लेकर काफी ती’खे सवाल भी किए है।

ISF

हालांकि गठबंधन के पूर्व भी कांग्रेस के बा’गी ने’ताओ ने बंगाल में अब्बास सिद्दिकी के साथ हाथ मिला’ने को लेकर भी स’वाल खड़े किए है। अधीर रंजन चौधरी ने ही अपने नेताओं पर पल’ट’वार कर दिया है।

Leave a Comment