दुबई जॉब वि’वाद : अधिकारी जयंत ने माँ’गी मा’फ़ी, दुबई में अ’ब्दुल्ला ने नौ’करी माँ’गने पर ज’यंत ने कहा था “शा’हीन बाग चले जाओ,खूब होगी क’माई”

ना’गरिकता संशो’धन का’नून को लेकर देश की राजधानी समेत कई दिल्ली में कई इला’कों में 24 घन्टे वि’रोध प्रदर्श’न देखने को मिल रहा है। नाग’रिकता का’नून को भेद’भाव के रूप के देख जा रहा है। हर राज्य में इस का’नून के ख़ि’लाफ़ रैलिया, सभाए और डुर टु डुर समझा’या भी जा रहा है। देश मे नाग’रिकता का’नून के सम’र्थन और वि’रोध आपने देखा होगा । बीते दिनों, झारखण्ड में इस कानू’न का स’मर्थन करने वाले और वि’रोधी आमने सामने हो गए थे जिसमें जनता को नु’क’सान पहुँचा था ।

अब एक खबर सामने आ रही है, लेकिन यह खबर विदेश से है और एक कं’पनी में घ”टित हुई है । दुबई की एक कंपनी में केरल के एक शख्स ने जब जॉब के लिए अप्लाई किया । जब सीनियर अधिकारी ने उस केरल के व्यक्ति को जो जवाब दिया उससे सभी स्त’ब्ध है । दरअसल केरल के एक युवक ने दुबई में नोकरी मांगी तो उसे सीनियर अधिकारी जयंत गोखले ने सलाह दी गई वो दिल्ली के शाहीनबाग में चले जाए।

बता दे, दक्षिणी दिल्ली में स्थित शाहीनबाग में करीब डेढ महीने से इस कानून के खिलाफ वि’रोध हो रहा है। 23साल के अब्दुल्ला एसएस ने मैकेनिकल इंजीनियर के लिए दुबई में पोस्ट किया था। दुबई के अखबार गल्फ न्यूज के मुताबिक, वहां एक कंसल्टेंसी फर्म के सीनियर अधिकारी जयंत गोखले ने ईमेल करते हुए लिखा मैं सोच रहा था कि आपको नोकरी की क्या जरूरत है?

दिल्ली जाओ और वहां पर शा’हीनबाग में चल रहे धरने प्रदर्शन में शामिल हो जाओ। रोजाना आपको मुफ्त में 1000 रुपए मिलेंगे और फ्री में खाना, ब्रियनी और मिठाई भी खिलाई जाएगी। गोखले का यह ईमेल वायरल हो गया है। वही गल्फ न्यूज के मुताबिक, अब्दुल्ला का कहना है कि वो इस तरह का ईमेल देखकर हैरान है। उन्हें समझ नही आ रहा है कि आखिर कोई कैसे इस तरह की बाते लिख सकता है।

अब्दुल्ला ने कहा कि इस पर वो किसी तरह का विवाद नही चाहते है उन्हें सिर्फ नोकरी की जरूरत है। लोगो की दलील है कि गोखले धर्म के नाम पर भेदभाव कर रहे है। गोखले अपनी सफाई पेश करते हुए कहा रहे है कि वो बीमार है। उसके मेल को लोग जबर्दस्ती मुद्दा बना रहे है। इस मेल के जरिये किसी को ठेस पहुँचना नही था।

मैंने अब्दुल्ला से पहले माफी मांग ली है। बता दे, शाहीनबाग की महिलाएं 5 डिग्री के तापमान में भी अपने विरोध के लिए लड़ती रही है। उनके खिलाफ पैसे मिलने का आरोप भी लगाया गया था। पिछले दिनों ही बीजेपी के प्रवक्ता अमित मालवीय ने ट्वीट करते हुए दावा किया था कि शाहीनबाग में CAA के खिलाफ़ प्रदर्शन में लोगों को हर रोज 500 रुपए मिलते है।

लेकिन इनके दावे को प्र’दर्शन’कारियों ने खा’रिज कर दिया हैं। बता दे, शाहीन बाग के प्र’दर्शन कारियों ने 500 रुपये मिलने वाले बयान के बाद क’रारा जवाब देते हुए कहा था कि देश में ऐसा कोई ‘नो’ट नही बना, जो उन्हें खरीद सके । आपको बता दे, शा’हीन बाग की त’र्ज पर देशभर में 150 से अधिक जग’हों पर 24 घंटे शांति’पूर्वक प्रदर्शन कर रहे है। इसमें दिल्ली, राजस्थान , यूपी , एमपी , गुजरात , पश्चिम बंगाल , केरल , असम सहित कई राज्यों में विरोध प्रदर्शन देखने को मिल।

Leave a Comment

close