इस गांव में चार मुस्लिम परिवारों के लिए मस्जिद बनवा रहे सिख और हिन्दू, गुरूद्वारे में मुसलमानों ने …

पहले गाँवो में भाईचारे की मिसाल देखने को मिलती रहती थी, लेकिन आज ये किस्से बहुत कम देखने को मिलते है। आज हम आपको ऐसी ही खबर से रूबरू कराने जा रहे है। मोगा के भूलर गांव के एक सरपंच पाला सिंग ने द इंडियन एक्सप्रेस से बात करते हुए कहा है कि उनके गांव में 7 गुरुद्वारे और दो मंदिर है। कोई भी मस्जिद नही है। आजादी के विभाजन से पहले एक मस्जिद थी लेकिन वो समय के साथ ही एक खंडहर में तब्दील हो गई।

इसके साथ ही उन्होंने कहा कि आजदी के बाद चारो मुस्लिम परिवारों ने इसी गांव में रहना भी पसन्द किया और तब से इस गांव में हिन्दू,मुस्लिम और सिख परिवार सामाजिक सद्भाव से रहते है। पाला सिंह ने कहा है कि गांव के लोग हमेशा से यह चाहते थे कि मुस्लिम परिवारों केलिए एक मस्जिद होनी भी चाहिये।

foundation stone laying ceremony of mosque

इसलिए सभी ग्रामीणों ने मिलकर तय किया है कि गांव में एक मस्जिद का निर्माण भी किया जाएगा और वही उसी जगह पर बनेगी जहाँ ओर आजादी से पहले एक मस्जिद थी। उन्होंने आगे कहा की बीते दिनों जब मस्जिद का शिलान्यास करने का समय आया तो तेज बारिश शुरू हो गई।

तेज बारिश को देखते हुए जब शिलान्यास कार्यक्रम को स्थगित करने का निर्णय लिया गया तो वहां मोजूद लोग नि;रा’श भी हो गए। जिसके बाद ग्रामीणों ने यह फैसला किया कि अब इसका कार्यक्रम को गांव के ही गुरुद्वारा में किया जाएगा। ग्रामीणों ने थोड़ी देर के

foundation stone laying ceremony of mosque

अंदर ही गुरुद्वारे ही सारी व्ययस्था कर दी। गुरुद्वारे में ही लंगर की व्यवस्था की गई। मस्जि’द निर्माण को लेकरसरपंच पाला सिंह ने कहा है कि गांव के लोग खुश है कि मस्जिद उनका दसवां पूजा स्थल होगा।

Leave a Comment