पूर्व कप्तान की बेटी सना गाँगुली ने ना’ग’रिकता का’नून के ख़ि’लाफ लिखी पोस्ट तो एक्ट्रेस बोली- मैं सना की फैन हूँ…..

ना’ग”रि’कता का’नू’न को लेकर देशभर में वि’रोध हो रहा है। जनता स’ड़को पर उतरकर वि’रो’ध कर रही है। बॉ’ली’वुड ए’क्टर्स में भी इसका जोरदार वि’रोध देखने को मिल रहा है। आपको बता दे कि इन सब के बीच बी’सीसी’आई अध्यक्ष सौरव ‘गां’गुली के बेटी सना गांगुली ने इंस्टा’ग्राम स्टोरी शे’यर कर बहुत ही ज्या’दा चर्चे ब’टौर रही हैं। सना की यह पोस्ट तेजी से वा’य’र’ल हो गई।

हालांकि उनके इंस्ट्रा’ग्राम अकाउंट से यह पो’स्ट’ न’ही दिख रहा है, क्योकि उन्होंने इसे डि’ली’ट कर दिया। सना ने इं’स्टा से पो’स्ट डि’ली’ट क्यों किया इसका जवाब उनके पि’ता ने दिया है। उनकी पो’स्ट का स्क्री’न शॉ’र्ट का’फी वा’य’रल हो रहा है। स’ना गां’गु’ली का उनके पि’ता सौ’र’व गां’गु’ली ने ट्वी’ट कर जवाब दिया है । सौ’रव गाँ’गुली ने कहा कि स’ना को इन सब माम’लों से दू’र र”खा जाए, वह अभी बहुत छोटी है।

सना गांगुली ने साल 2003 में खुशवंत सिंह की किताब’ द एंड ऑफ इंडिया’ प्रकाशित हुई थी। जिसमे से सना ने कुछ किताब के अंश को सोशल मीडिया पर पोस्ट किया है। उसमे लिखा है कि हर फां’सी’वा’द शा’स’न को अपने आदर्शों का पालन करने के लिए स;मु’दाय और समूहों की जरूरत नही है। मगर यह यही पर नही रुकता है। घृ’णा के आ’धार पर यह तै’यार आं’दोलन ड’र और सं’घ’र्ष दिखा’कर ही आगे बढ़ाया जा सकता हैं।

इन्होंने इंस्टाग्राम स्टोरी पर आगे लिखा है कि ‘हम में से जिसे ये लग रहा है कि वो सुर’क्षित है क्योंकि हम मु’स्लि’म या फिर ईसाई नही है। वो बेव’कू’फी भरी दुनि’या मे जी रहे है। संघ ने अभी से ही वा’म’पंथी और इतिहासकारों और प’श्चिमी सं’भ्यता प’सन्द करने वाले यु’वाओं को निशा’ना बनाना शुरू कर दिया है।’

आगे लिखा है कि ‘कल वो उन म’हिलाओं के खि’ला’फ जो कि स्क’र्ट पह’नती है, उन लोगों के खि’लाफ जो कि मी’ट खा’ते है, श’रा’ब पी’ते है, वि’दे’शी फ़िल्म देखते है और वा’र्षिक अ’नु ष्ठा’न में मं’दि’र नही जाते है।वेध में पास जाने के बजाए हुमूयो’पेथीक डॉ’क्टर से इ’ला’ज करवाते है।। ज’य श्री रा’म के ना’रे लगाने के बजाए कि’स या फिर हाथ मिलाते है।’ अगर हमें भा’रत को जिं’दा रखना है तो यह सब ची”जें सम’झ’नी होंगी।

Leave a Comment

close