मिसाल : मु’स्लिम परिवार में पली बढ़ी राजेश्वरी की भ’गवती मं’दिर में हुई हि’न्दू री’ती रि’वाजों से शादी, जानिए

केरल में एक शादी काफ़ी सुर्खिया बटौर रही है । एक मुस्लिम परिवार ने शादी की रस्म मंदिर में कर देशभर में तारीफे बटौर रहे है । बता दे, केरल के कासर गोड के कान्हा गड़ में भगवती मंदिर में बेटी की शादी की रस्म अदा की गई । इस शादी को हिन्दू मुस्लिम एकता की मिसाल के तौर पर देखा जा रहा है । दुल्हन राजेश्वरी ने विष्णु संग अपने परिवार की उपस्थिति में शादी के बंधन में बंधी ।

विष्णु की शादी 28 वर्षीय राजेश्वरी से हुई, विष्णु लेब टेक्नीशियन है । विष्णु के परिवार का बयान सामने आया है कि उन्होंने राजेश्वरी की शादी मंदिर में करने को कहा था। बता दे, इस शादी की ये खासियत भी रही कि विष्णु के परिवार वालो ने इस शादी के लिए पैसे बचाए और राजेश्वरी की शादी की। बता दे, राजेश्वरी दुल्हन को मुस्लिम दंपत्ति ने गोद लिया था।

जब राजेश्वरी की उम्र सात साल थी और इनके माता पिता को खो दिया था तब मुस्लिम दंपत्ति ने राजेश्वरी को गोद लिया था। उनके बाद में राजेश्वरी की मुस्लिम परिवार में ही पढ़ाई लिखाई, परवरिश हुई । राजेश्वरी के पिता अब्दुलल्ला के खेत मे कार्य करते थे । राजेश्वरी के पिता सरवावन की मौत के बाद अब्दुल्ल ने अपने तीन बेटे शमीम, नजीब और शरीफ के साथ ही राजेश्वरी की परवरिश की थी ।

मलयालम मीडिया आउटलेट में छपी खबर के अनुसार मुस्लिम परिवार में पली पढ़ी राजेश्वरी की जब मंदिर में शादी होने की बात सामने आई तो अब्दुल्ला खुश हुए लेकिन गर्भग्रह से दूरी बनाई रखी । लेकिन जैसे जैसे शादी की रस्म आगे बढ़ती गई वैसे वैसे दूल्हे के परिवार वाले उन्हें आगे ले आए । मलयालम मीडिया में छपी खबर के अनुसार दूल्हे के दोस्तों और रिश्तेदारों ने कान्हागड नगरपालिका पार्षद श्रीधरन के साथ दुल्हन और मुस्लिम परिवार का स्वागत किया ।

बता दे, इससे पहले इसी साल केरल में हिन्दू मुस्लिम एकता मिसाल देखने को मिली थी। केरल की एक मस्जिद में हिन्दू जोड़े की शादी हिन्दू रीति रिवाज़ो से हुई जिसने भी खूब सुर्खियां बटौरी थी। बता दे, हिन्दू जोड़े की मस्जिद में शादी कराने की जिम्मेदारी मस्जिद के सदस्यों ने सम्भाली थी । मस्जिद में हुई हिन्दू रीति रिवाजों से शादी की सीएम पिनरई विजयन ने काफी तारीफ की थी।

Leave a Comment

close