भारत का ये मुस्लिम शख्स बना दुबई के 300 व्यापारियों केे लिए मसीहा, कर्ज पी’ड़ि’तों को आ’त्म’ह’त्या से बचाया और ….

भारतीय प्रवा’सी केवी शमसुद्दीन ने लगभग 300 प्र’वासि’यों के लिए सहा’यता दे रहे है। जो कभी क’र्ज में फं’से हुए थे, लेकिन आज वो सभी शम’सुद्दीन की वजह से कर्ज से पूरी तरह से मु’क्त है । आज वे सभी लोगो के लिए प्रे’रणा बने हुए है । एक वित्तीय विशेषज्ञ शमसुद्दीन यूएई में 50 साल पहले 17 जुलाई 1970 आए थे।

खलीज टाइम्स ने अपनी एक रिपोर्ट्स में छापा है जिसमें शमसुद्दीन ने कहा है कि, मैं यूएई जैसे देश में रहने के लिए भाग्यशाली हूं। यूएई 200 देशों के लोगों का घर है। उन्होंने यूएई की जमकर तारीफ की । उन्होंने आगे कहा कि यह देश ग्रह का सबसे सुरक्षित और शांतिपूर्ण स्थान है। बरजील जियोजिल सिक्योरिटीज एलएलसी के संस्थापक और निदेशक है।

Indian social worker

शमसुद्दीन ने भारत में पंजिकृत एक गैर सरकारी संगठन प्रवासी बन्धु वेलफेयर ट्रस्ट की भी स्थापना की है।NGO अनिवासी भारतीयों की वित्तीय शिक्षा और कल्याण के लिए काम करता है। कुछ समय के लिए रक्षा मंत्रालय में काम करने के दौरान, शमसुद्दीन ने महसूस किया है कि कई भारतीय प्रवासियों को वित्तीय मुद्दों का सामना करना पड़ रहा था क्योंकि उन्हें पैसे बचाने की कोई आदत नही थी।

शमसुद्दीन के बारे में कहा जाता है कि इन्होंने विभिन्न रात्रीयतो के लगभग 300 लोगो को कर्ज पीड़ि’तों को आ’त्म’ह’त्या से बचा’या है।आपको बता दे, दिसंबर 2019 में चीन में कोरो”ना की दस्तक के बाद यह पूरी दुनिया मे देखते ही देखते फैल गया । जानकारी के अनुसार अब तक करीब 2 करोड़ लोग को’रो’ना से सं’क्र”मि’त हो चुके है । भारत की बात करें तो रोज़ 60 हज़ार से अधिक को’रो’ना पीड़ित निकल रहे है, यह संख्या अगस्त 8 की बताई जा रही है।

Indian social worker

कोरोना काल में लाखों लोंगो की मौ’त हो गई तो वही क’रो’ड़ो लोग बे’रो’ज’गा’र भी हो गए । जहां एक तरफ़ आ’र्थि”क मं’दी ने डेरा डाल लिया है तो वही कई जगहों पर गरीब लोगों के खाने की दिक्कत होने लगी है, घर चलाना आसान नही रह है । गरीब लोगो की मदद भी लगातार लोग कर रहे है ।

Leave a Comment