UAE को इसराईल से शांंति डील करना पड़ा महँगा, मलेशियाई उलेमाओं ने कहा- ‘हम फिलीस्तीन के साथ थे और रहेगे’

यूएई और इज’राइल के समझौते के बाद देश के अलग अलग हिस्सों से अलग अलग प्रतिक्रिया आ रही है। कुछ देश एसक वि’रो’ध कर रहे है तो कोई देश इस पर अपनी सहम’ति जाहिर कर रहे है। अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने इस समझौते को ऐतिहासिक कहा है। इंडोनेशि’या के मौ’लवियों ने यूएई और इजराइल के बीच मे हुए हालिया समझौते को लेकर इस सौदे की निंदा की और इसे रद्द कर दिया है।

इंडोनेशिया के उलेमा काउंसिल के उपाध्यक्ष मोहिद्दीन जुनैद ने कहा है कि यूएई का यह कदम फिलिस्तिनी के लोगो के लिए वि;श्वास’घात किया है। जुनेदी ने जकार्ता में एक ऑनलाइन चर्चा में कहा है कि यह मु’सलमा’नों के लिए द’र्दना’क घ’टना थी। उन्हीने आगे कहा है कि यूएई को इस बात को ध्यान में रखना होगा कि ऑर्गेना’इजेशन फ़ॉर इस्ला’मिक को ऑपरेशन ने मार्च 2016में जकार्ता में अपनी बैठक के दौरान इजराइल पर एक प्र’तिबं’ध लगाने पर स’ह’मति जाहिर की थी।

indonesia ulama isreal uae deal

उन्होंने कहा है कि इंडोनेशिया 1945 में औप’निवेशिक शास’न से अपनी स्वतंत्रता को स्वीकारे करने वालो के से एक होने के लिए फि’लिस्ति’नी का सम्मन करता है। यह कहते हुए की जकर्ता फिलिस्ति’नीयो के साथ तब तक ख’ड़ा रहेगा जब तक वो अपना लक्ष्य को पूरा नही कर लेते है।

जुनेदी ने आगे कहा है कि फिलिस्ति’नी इं’डोनेशि’या की स्वतं’त्रता को मान्य’ता देने वाला पहला देश है, हम उसकी इस बात को कभी भी नही भूलेंगे। इजराइल और यूएई के समझौते के बाद कई मु’स्लि’म देशों ने इसका वि’रो’ध किया है। पाक, तुर्की समेत कई देशों ने अपने राजदूत को यूएई से वापस भी बुला लिया है।

indonesia ulama isreal uae deal

तुर्की के राष्ट्रपति ने बीते दिनों ही कहा है कि फिलि’स्तिनी लोगो को कभी भी परे’शा’न नही होने देंगे। हम अपने राज’दूत को वापस बुला सकते है। सऊदी अरब ने इस मुद्दे पर अभी तक चुप्पी साधे हुए है।इस मुद्दे पर तुर्की और पाक ने एक होकर बड़ा कदम उठाने की घोषणा की है। हमास ने भी समझौते को लेकर कड़ी निं’दा की है।हमास ने कहा है कि इसे हमारे लोगो की पी’ठ में छु’रा घो;पना करार दिया है।

Leave a Comment