भारतीय मुसलमानों द्वारा बनाई गई ये इमारतें हो गई अमर और अटल, दुनिया में कोई भी देश नहीं कर पाया इसकी नक़ल

हिंदुस्तान हमेशा दुनिया में अपनी सभ्यता , कला और संस्कृति के लिए जाना जाता है । इस देश मे अनेक धर्मो की एकता के लिए विश्व मे प्रसिद्ध रहा है। हमारे देश मे सदियों पहले राजा महाराजाओं ने राज किया है। इसमें उन्होंने कई तरह की इमारत को भी स्थापित किया है। भारत मे आज भी ऐसी बहुत सी इमारते है जो गौरवशाली इतिहास की कहानियों को बयां करती है। यह इमारते मुस्लिम राजाओं द्वारा बनवाई गई थी।

जिसकी आज तक किसी भी कलाकार ने नकल नही की है। ना ही आगे हो सकती है। ऐसी ही हम बात करने जा रहे है इमारतों की जिसकी नकल तो की कई लेकिन सफल नही हो पाए है। आज भी विदेशी लोग घूमने के लिए आते है। जिनके बारे में हम आपको बताने जा रहे है। 1. ताज महल:- ताजमहल देश के सबसे बड़े राज्य उत्तरप्रदेश के आगरा में स्थित है । इसको शाहजहाँ ने अपनी पत्नी मुमताज की याद में बनवाया था । ताजमहल के अंदर बादशाह और उनकी पत्नी मुमताज का मकबरा स्थित है। इनका मकबरा देखने लाखो लोग आते है विदेश से पर्यटक देखने आते है।

taj mahal

यह दुनिया की वो इमारत है जिसको दुनिया के सात अजूबों में शामिल किया जाता है। बता दे, यह इमारत को सफेद संगमरमर से सजाया गया है । और इस पर कुरान की आयतें भी लिखी गई है जो दिखने में बहुत ही भव्य दिखाई देती है । 2. लाल किला :-लाल किले को 17 वी सदी के दौरान बनाया गया था। आपको बता दे कि इस किले का निर्माण उस्ताद अहमद द्वारा 1639 में शुरू हुआ है जो 1648 तक जारी रहा। यह किले लाल पत्थरों से निर्मित बहुत ही सुंदर लगता है।

यह दुनिया के विशाल महलों में से एक है। यह बहुत ही बड़ी जगह 2.41 किलोमीटर में फैला हुआ है। इस किले में दो मुख्य गेट है। पहले गेट का नाम दिल्ली गेट जबकि दूसरे गेट का नाम लाहौर गेट है । इसको उस्ताद अहमद के शाही परिवार के लिए बनाया गया था। 3. अब हम बात करते है कुतूम मीनार की । दिल्ली के कुतुब परिसर में स्थित यह सबसे बड़ी मीनार है। बता दे कि इस कि ऊँचाई 72.5 मीटर है। इसे 1193 से 1368 में बीच मे कुतुब उद दिन ऐबक ने एक विजय स्तम्भ के रूप में बनाया था।

kutub minar

जो आज भी भारत के एक प्रसिद्ध मीनार के रूप में जानी जाती है। इसको देखने के लिए लाखों लोग आते है। 4.अब हम बात करते है चार मीनार की :- इसको मोहम्मद कुतुब शाही ने1591 में बनवाया था। यह इमारत हैदराबाद की खास पहचान के रूप में जानी जाती है। इस इमारत में 4 टावर है। इसके नाम से इसका भी पता लग रहा है जैसे चार मीनार। आपको बता दे कि इसको कुतुब शाही ने गोलकुंडा के स्थान को अपनी नई राजधानी बनाया था। यह मीनार उस वक्त बनवाई गई थी।

आज भी इसकी तारीफ हर जगह होती है। 5. अब हम बात कर रहे है बड़ा इमाम बाड़ा की ।यह लखनऊ में गोमती नदी के किनारे पर बना यह इमाम बाड़ा नवाब आसफ़ुद्दौला ने बनवाया था। इस इमारत को बनवाने में कोई भी धातु का इस्तेमाल नही हुआ है। इसको सिर्फ इटो से बनाया गया है। इसकी ऊँचाई 15 मीटर है। 20,000 टन बजनी छत बिना किसी बीम के सहारे मजबूती से टिकी हुई है।

imam bada

इस इमारत को देखकर बड़े बड़े इंजीनियर भी चोक जाते है यह कैसे संभव हो सकता है। इसकी दीवार उड़द की दाल चुने आदि का मिश्रण से तैयार की गई है। 6. अब हम बात करते है जामा मस्जिद की:- यह मस्जिद दिल्ली में स्थित है। इस मस्जिद में 25,000 लोग एक साथ नमाज पढ़ सकते है। इसको मुगल शासक शाहजहाँ द्वारा 1644 मेंबनवाया गया था। इसको लाल पत्थर और सफेद संगमरमर से बनवाया गया है।

यह मस्जिद बहुत बड़ी है। आज भी यहां पर बहुत लोग आते है। बात दे, आज़ादी की लड़ाई में इस मस्जिद का काफी अहम योगदान रहा है । मौलाना अबुल कलाम आजाद ने ही इस मस्जिद की सीढ़ियों पर खड़े होकर ऐतिहासिक भाषण दिया था ।अब हम बात करते है । 7.हुमायूँ का मकबरे की :- यह दुनिया भर में मुगल शासक हुमायूँ की आखरी मंजिल के नाम से जाने जाते है। इस मे हुमायूँ का मकबरा मौजूद है। यह दिल्ली में स्थित है।

humayu ka makbra

यह मुगल शासक के काल मे बनवाई गई थी। 8. अब हम बात करते है ताज उल मस्जिद की । यह एशिया की सबसे बड़ी मस्जिद मानी जाती है। यह मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल में स्थित है। इस मस्जिद का काम मुगल शासक बहादुर शाह जफर ने अपनी पत्नी के नाम पर सन 1844 1860में शुरू किया था। इसका काम पेसो की वजह से अधूरा रह गया था। जिसको की बहादुर की बेटी ने पूरा करवाया था।

Leave a Comment

close