देश के लिए शहीद हुए खुर्शिद खान, उमड़ पड़ा पूरा गाँव, लगे अल्लाहू अकबर के नारे, बेटी बोली- मेरे पापा का ….

हमारे देश की सीमा’ओं और बो’र्डरों पर सै’नि’क हमारे लिए , हमारे देश के लिए दिन रात वह पर तैना’त रहते है और हमारे लिए अपनी जा’न को कु’र्बा’न कर देते है। बता दे कि ज’म्मू क’श्मीर के बारा’मु’ला में आतं’की ह’म’ले में श’ही’द होने के बाद विक्र’मगंज के घुसिया कला के रहने वाले 41 साल के खुर्शिद खान श’ही’द हो गए ।

इस दौरान जब गांव में खुर्शीद का पार्थि’व श’व पहुँचा तो उनके गाँव के लोगो ने हिन्दु’स्ताn जिं’दाबाद, भा’र’त मा’ता की ज’य और खुर्शीद खान अमर रहे के नारे लगाए। ग्रामीणों ने पा’कि’स्तान मु’र्दाबा’द के भी नारे लगाए। श’ही’द का श’व गांव में पहुचते ही गांव के सभी लोग बाहर निकल गए और सड़क किनारे खड़े हो गए । युवाओं की टोली ने हाथों में तिरंगा लेकर श’ही’द को सम्मान देती हुआ देखी।

khurshid khan

रोहतास केडीएम पंकज दीक्षित एसपी सत्यवीर सिंह इस दौरान द’ल ब’ल के साथ मौजूद रहे। श्रं’द्धा’जलि देने वालो में स्थानीय विधायक संजय यादव के अलावा भी सीआरपीएफ के कई अधिकारी भी मौजूद थे। घसिया गांव में रात को खुर्शीद खान के शरीर को द’फ’ना’या गया । गांव के सभी लोग मौजूद रहे।

बता दे कि खुर्शीद के शहीद होने के बाद डीएम पंकज दीक्षित ने पोडित परिवार को 11 लाख रूपए का चेक दिया है । इसके बाद सरकार ने श’ही’द के परिजनों को 36 लाख रुपए देने की घोषणा की है।जिंसमे से 25 लाख रुपए तो मुख्यमंत्री राहत कोष से दिए जाएंगे। इसके अलावा भी एक आश्रित को सरकारी नोकरी भी दी जाएगी।

khurshid khan

बता दे कि शहीद के गांव के लोग जवान बेटे की शहादत ओर गर्व को बात कर रहे है । शहीद के चाचा मतीन खान ने बताया है कि उनके परिवार के और बच्चे की अगर जरूरत हुई तो वो देश के लिए श”हाद’त की सी’मा पर जाने को तैयार है।

बता दे कि शहीद खुर्शीद खान के 4 भाई है वो परिवार में सबसे बड़े है। खुर्शीद खान की 3 बेटिया है। उनकी 13 साल की जहीदा खुर्शीद, 8 वर्षीय समरीन और 5 साल की अप्सा खुर्शीद और उनकी पत्नी नगमा का रो रो’क’र बु’रा हाल है।

khurshid khan

खुर्शीद के प’रिज’न ने बताया हैंकि 28 जून की रात को वो जम्मू कश्मीर गए थे। सुबह शाम हमारी फोन पर बात भी होती थी। खुर्शीद खान की नोकरी 2001 में सी’आर’पी’ए’फ मे लगी थी। पूरा परिवार को वही चलते थे।

Leave a Comment