100 साल पहले नौकरी की तलाश में निकले इस मुस्लिम शख्स ने बसा दिया पूरा गांव, रहते है एक ही वंश के 800 लोग, जानिए पूरा मामला

देश मे जनसंख्या नियंत्रण कानून पर बहस के बीच झारखंड के कोडरमा जिले का एक गांव इन दिनों काफी चर्चा का विषय बना हुआ है। कोडरमा में नदाकारी ऊपरी टोला एक ऐसा गांव है जहां की कुल आबादी 800 है। इस गांव में एक ही वंश के लोग रहते है। इसमें सबसे खास बात यह है कि उत्तरी मिया

नाम के एक शख्स भी है जो साल 1905 में रोजी रोटी की तलाश में अपनी पत्नी और पिता बाबर अली के साथ कोडरमा पहुच गए थे। इनके परिवार ने यह पर अपना रहने का स्थान भी बना लिया था। उत्तरी मिया ने अपने परिवार के साथ रहने के लिए एक झोपड़ी बनाई इसके अलावा उन्होंने जं’गल

koderma jharkhand

को साफ करके उस पर खेती करने के लायक जमीन भी बनाई। इसके बाद उत्तरी मिया का परिवार भी बढ़ता गया। वो पहले 2 से 5 हुए, पांच से परिवार के सदस्यों की संख्या बढ़कर 82 हुई और आज 116 सालो के बाद उनके वंश के करीब 800 लोग इसी गांव में ही रहते है।

उस बात की आगे और जनकरी देते हुए उत्तरी मिया के 82 वर्षीय पोते हकीम अंसारी ने बताया है कि उनके पांच बेटों में मोहम्मद मियां, इब्राहिम मियां, हनीफ अंसारी, करीम बख्स और सदीक मिया से अगली पीढ़ी में बेटों की संख्या बढ़कर 26 हो गई और बेटियों की संख्या 13 तक पहुँच गई ह।

koderma jharkhand

उन्होंने आगे बताया है कि आज इस गांव में 800 लोग की आबादी है और 400 लोगो का नाम वोटर लिस्ट में भी दर्ज है। इस गांव में दो मस्जिदे, मदरसा और स्कूल का निर्माण भी हो गया है।

Leave a Comment