इंग्लिश में MA फिर भी नहीं मिली नौकरी तो लड़की ने खोल ली चाय की दुकान- ‘MA इग्लिश चायवाली’

दुनिया मे हर माता और पिता चाहते है कि उनके बेटे और बेटी एक ऐसे मुकाम पर हो जिस से उनका सर बुलन्दी से उठ जाए। लेकिन आज को आबादी के बढ़ती रफ्तार को देखते हुए पढ़े लिखे युवाओं को भी अच्छी नोकरी नही मिल पाती है। जिसकी वजह से वह बेरोजगार रहने पर मजबूर है।

पश्चिमबंगाल में रहने वाली एक लड़की M. A इंग्लिश की डिग्री उंसके एक हाथ मे और दूसरे हाथ मे चाय की केतली। टुकटुकी दास के पास एमए की डिग्री है। वह ग्राहकों को चाय सर्व करती है। टुकटुकी दास को बचपन से ही टीचर बनने का शौक था लिहाज उन्होंने यह सपबा पूरा करने के लिए

इंग्लिश सब्जेक्ट से एमए किया। एमबीए चायवाले से प्रेरणा लेकर दास ने भी चाय का बिजनेस को शुरू करने का फैसला किया। टुकटुकी के इस फैसले से उनके माता और पिता खुश नही थे। वह इस बात को चाहते थे कि टुकटुकी पढ़ लिखकर टीचर बने लेकिन

एमए की डिग्री हासिल करने के बाद टुकटुकी का यू चाय बेचना उन्हें बिल्कुल पसंद नही था। टुकटुकी दास के पिता पेशे से एक ड्राइवर है। जबकि उनकी माँ घर पर ही स्टोत चलाती है।टुकटुकी ने कोलकाता के हावड़ा स्टेशन

के पास एक चाय की दुकान खोली।जिसका नाम उन्होंने एमए इंगलैश चायवाली रखा। टुकटुकी दास का कहना है कि कोई भी काम छोटा या बड़ा नही होता है। बस किसी भी कम को लग्न और मेहनत के दम पर पूरा करना चाहिए।

Leave a Comment

close