कौन फतेह करेगा ‘पश्चिम बंगाल’ और कौनसा दल रहेगा फिसड्डी ? ये 4 मुद्दे तय करेंगे राज्य के सियासी चाल

पश्चिम बंगाल के विधान’सभा चुना’व की तारीखों का एलान आज होने वाला है। लेकिन उससे पहले ही राज्य में सि’या’सी पारा अपने चरम पर है। बंगाल से तृणमू’ल कॉं’ग्रेस के शासन को उखा’ड़ फें’कने के लिए भारती’य जन’ता पा’र्टी पू’रा जोर लगा रही है।

पीए’म मो’दी और अमि’त शाह के अलावा भाजपा के कई बड़े नेता बं’गाल में पूरी ता’कत से प्र’चार करने में लगे हुए है। 2019 में हुए लोकस’भा’चुनाव में बंगा’ल से 18 सीटें जितने के बाद भाजपा के हौसले बुलंद है और वो इस बार बंगा’ल की कु’र्सी पर बैठ’ने की उम्मीद भी लगा रहे है। लेकिन इन सबके बीच बंगा’ल की ज’नता कि’सको अपना नेता चुन’ती है यह वक्त ही बता’एगा।

mamata banerjee

चुनाव हमेशा मुद्दों पर लड़ा जाता है। इस बार भा’जपा ने नागरि’कता सं’सोधन का’नून और रा’ष्ट्रीय नागरि’कता पं’जी को अपना मु’ख्य ह’थि’यार बना रही है। इसके अलावा भग’वा दल,भर्ष्टा’चार, भाई भतीजावा’द को लेकर भी TMC पर हम’ला बोल रही है।

जैसे जैसे पश्चिम बंगाल में विधान’सभा चुनाव के दिन करीब आ रहै है।राज्य में CAA को लेकर मां’ग ते’जी से ब’ढ़ रही है। भाजपा के दिग्गज नेता भी कई बार मंच से इस बात का ए’लान कर चुके है कि उनकी सर’कार आते ही वो CAA को पूरी ता’कत से बंगाल में लागू करेंगे।

mamata banerjee

जो भाजपा के लिए चुनाव में लाभदाय’क हो सकता है। वही मम;ता इस कानु;न का पुरजोर तरीके सेविरो’ध कर रही है और इसे धा’र्मिk भेद’भाव पर आ;धरित कानून भी बता रही है । इधर NRC को लेकर भी ममता बनर्जी कह चुकी है कि बंगाल में जितने में बांग्ला;देश के लोग है वो सभी भा;रतीयों है और भाज;पा को

उनमें से किसी को भी देश से बा’हर नही निका’लने देंगे।जबकि भाजपा का कहना है कि देश से हर एक एक घुस’पैठि’यों को बाहर नि’काला जाएगा। ये मुद्दा भी इस बार के चुनाव में अहम भूमिका निभा सकता है।

mamata banerjee

अ’साउद्दीन ओवे’सी की पा’र्टी ऑल इंडि’या मज’लिस ए इ’तेहादुल मुस्लि’मीन की एंट्री ने बंगाल चुना व को और ज्या’दा दिल’चस्प बना’दिया है क्योंकि Aimim के चु’नाव लड़’ने से TMC और कॉं’ग्रेस के वो’ट बैं’क में बिख’राव हो सकता है । अब ऐसे में यह देखना दि’लचस्प है कि बंगाल विधा’नसभा चुनाव में ऊँट किस करव’ट बैठता है।

Leave a Comment