ना’गरि’कता का’नून के वि’रोध में उतरी शि’वसेना ने कहा- मु’स्लिम ड’रे नहीं, महाराष्ट्र का सबक है ड’रो मत

ना’गरिकता संशो’धन कानू’न को लेकर देश के अलग अलग हिस्सों में इस का’नून का लेकर वि’रोध प्रद’र्शन किया जा रहा है। इस का’नून के वि’रोध में छात्र छात्राओं के अलावा नेता, सामाजिक कार्यकर्ता, आम जनता सहित दूसरे देशों के कई यूनिवर्सिटी में भी ऐसे ही विरो’ध प्रदर्शन देखने को मिल था है । बता दे, देश के अलग अलग हिस्सों से प्रतिदिन लाखों की संख्या में जनता सड़को पर निकलकर वि’रोध प्रदर्शन कर रही है।

कई राज्यो जैसे पश्चिम बंगाल, केरल, एमपी, राजस्थान, दिल्ली में कार्यक्रम का आयोजन किया जा रहा है, शांति मार्च हो रहे है ,सभाएँ हो रही है, रैलियां निकाली जा रही है। बता दे कि CAA और NRC के खिलाफ़ जमात ए इस्लामी हिंद की ओर से मुम्बई में एक कार्यक्रम किया गया था। शिवसेना की और से पार्टी के वरिष्ठ नेता संजय राउत ने हिस्सा लिया था। इस दौरान शिवसेना नेता ने कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए कहा कि जिस का’नून से मु’स्लिम ड’रे हुए है, उससे हिं’दुओ पर भी ख’त’रा है।

राउत ने अपनी बात को आगे बढ़ाते हुए कहा कि इस कानून से देश, अलग थलग पड़ गया है। मैं कहता हूं कि ड’रो मत, जो ड’र गया वो म’र गया। मैं कहता हूं कि इस देश के नागरिकों को ड’र’ने की जरूरत नही है। ड’राने वाले आते है और चले जाते है।संजय राउत ने कहा कि बालासाहेब ठाकरे के नाम के आगे हि’न्दू ह्दय सम्राट जरूर लिखा जाता है। लेकिन वो हमेशा कहते थे कि चाहे हि’न्दू हो या मुस’लमान यह देश सभी का है।

बता दे कि पहली बार ही शिवसेना के नेता ने ना’गरिक’ता का’नून के वि’रो’ध में हुए कार्यक्रम में शिरकत की थी। आपको बता दे, नागरिकता बिल के वि’रोध में दिल्ली की जामिया मिलिया यूनिवर्सिटी और इससे सटे एरिये शाहीन बाग में 15 दिसम्बर के बाद हुई घट’ना के बाद लगातर दिन रात वि’रोध प्रदर्शन हो रहा है । यहां पर प्रोटेस्ट की कमान बूढ़ी औरतों और छात्राओं ने संम्भाल रखी है ।

बता दे, दिसम्बर की खू’न जमा देने वाली सर्दी में इन औरतों की चारों तरफ़ तारीफ भी हो रही है वही लगातर ये औरतें दूसरे लोगों के लिए भी एक सिंबल बन गई है । आपको बता दे, शाहीन बाग में प्रो’टेस्ट का हिस्सा ले ने वाली औरतों से जब एनडीटीवी ने बातचीत की तो उन्होंने साफ किया कि वह यहां पर तब तक बैठी रहेगी जब तक ये का’नून वापस नहीं ले लिया जाता।

Leave a Comment

close