अस्पताल की गंभीर लापरवाही, हिन्दू परिवार ने कर दिया मुस्लिम शव का अंतिम संस्कार, मुर्दा घर में शवों की अदला बदली पर गुस्साए परिजन बोले …

को’रो’ना के इस दौर में दुनिया के लगभग हर हिस्से में को’रो’ना का ड’र है। को’रो’ना के ड’र के कारण म’री’ज हॉ’स्पि’टल जाने से ब’च रहे है तो वही म’रीज की अगर हो’स्पि’टल में को’रो’ना के का’रण मृ’त्यु हो जाए तो उसको परिवार को सौपने में भी हॉ’स्पि’टल प्रशासन पूरी तरह से देने से म’ना कर देते है । हॉ’स्पिटल में म’री’जो का इ’ला’ज के दौरान मौ’त हो रही है। इसी दौरान हम देखते है कि मृ’त व्य’क्ति को पूरी तरह से सु’पुर्द ए खा’क करने की जिम्मेदारी हॉ’स्पिटल स्टाफ, प्रशास’न की होती है ।

इसमें कई बार देखा गया है श’वों की भी अदला बदली भी देखने को मिलती है । एक ऐसी ही खबर सामने आई है जिसके बाद हॉस्पि’ट’ल स्टाफ पर लापरवाही के आ’रोप’ लग रहे है । को’रो’ना म’हा’मा’री के दौरान अंति’म सं’स्का’र करवाने वाले में सिर्फ 20 ज’नों की इजाजत दी जा रही है या कई जगहों पर को’रो’ना पॉ’जि’टि’व का अंति’म सं’स्का’र हॉ’स्पिटल स्टाफ की कर रहा है ।

 negligence of hospital MP

इसी दौरान हॉस्पिटल के भी कई लापरवाही सामने आ रही है। मध्यप्रदेश के ग्वालियर के सबसे बड़े जयारोग्य हॉ’स्पिटल की सबसे बड़ी लाप’रवाही सामने आई है। अस्प’ता’ल के मु’र्दा घर मे श’वो की अदला बदली के बाद हि’न्दू परि’वार ने मु’स्लि’म शख्स का अंति’म संस्का’र करा दिया है। इस बात का पता मु’स्लिम परिवार को जब पता चला जब वो श’व लेने के लिए हॉ’स्पिटल में पहुँचे।

जांच में पता चला है कि बॉडी कवर में पर्ची नही लगी थी। हिंdu परिवार भी शव को पहचान नही पाए। बता दे कि हिन्दू परिवार ने अस्थि’यां मु’स्लिम परिवार को सौप दी है। न्यूज़ 18 के मुताबिक, मुरैना निवासी इरतजा’ खान को जह’री’ले की’ड़े ने का’ट लिया था। 11अगस्त को इरतजा को मुरैना से ग्वालियर लाया गया और जयारोग्य अस्पताल के ट्रामा सें’टर में भ’र्ती कराया गया।

negligence of hospital MP

दो दिन इ’ला’ज के दौरान13 अगस्त को इनकी मौ’त हो गई थी।इ’ला’ज के वक्त डॉ’क्टर्स ने इरतजा की को’रो’ना की रिपोर्ट करवाई जिसकी रिपोर्ट आना बाकी थी उन्होंने श’व देने से म’ना कर दिया और कहा कि जब रिपोर्ट नही आ जाती जब तक श’व नही ले जाया जाएगा। 15 अगस्त को इरतबा की रिपोर्ट ने’गे’टि’व आई।

जब परिवर वाले इरतजा का श’व लेने के लिए गए तो वहां पर उसका श’व नही था। ऐसे में परिजनों ने पुलि’स को फोन किया।जांच में पता चला कि इसी असप्ताल में सुरेश बाथम का भी श’व था। सुरेश की भी को’रोना रिपो’र्ट ने’गेटिव आई थी। सुरेश के परिवार वालो ने जल्दी बाजी में बिना देखे ही अंतिम सं’स्कर कर दिया।

मोहम्मद इरतजा के परिवार वालो ने अस्प’ता’ल में हंगामा खड़ा कर दिया। मृतक इरतजा के भतीजे अकरम के अनुसार, ये एक गम्भीर लापरवाही है, जिस पर मु’र्दा घर के इंचार्जडाक्टर, गार्ड और सुरेश बाथम के परि’जन के खिला’फ माम’ल दर्ज किया जाना चाहिए।

Leave a Comment