अरब-देश के नागरिकों को आया भारतीय मजदूरों पर तरस, हवाई किराया नहीं दे सकने वाले 2500 मजदूरों को फ्री में भेजेगे वतन वापस,जानिए

जो लोग भारत छोड़कर विश्व के दूसरे देशों में जा बसे है उन्हें प्रवासी भारतीय कहते है। ये विश्व के अनेक देशों में बसे हुए है। 48 देशो मे रह रहे प्रवासियों की कुल संख्या 2 करोड़ है। भारत देश ने अपने रोजगार की आय को बढ़ाने के लिए कई भरतीय सऊदी अरब, कुवैत, कटर , ओमान आदि देशो में चले जाते है।

ओमान की राजधानी मस्कट में वहां के निवासियों ने प्लेन टिकट ख़रीदने के लिए Dh 350,000 से अधिक रुपये का दान किया है। ओमानी नागरिक अपने पेसो की मदद के लिए भारत और कई देशों के फसे हुए प्रवासियों को अपने घरों तक पहुँचाने के लिए मदद कर रहे है। जो को’रो’ना वा’इर’स महा’मा’री के बीच हुई मंदी कि वजह से कोई किराया नही दे सकते है।

oman news

देश मे लगभग 2,500 प्रवासी फसे हुए है जो या तो खुद अपना काम करते थे , वो भी कोरोना के बीच हुई आर्थिक मंदी की वजह से नोकरियों से बाहर कर दिए गए है। जिन्होंने अपनी नोकरी छोड़ दी और अब अपने नियोक्ताओं द्वारा भुगतान किए गए पेसो से हवाई किराया देने में भी मजबुर है।

63 साल के अहमद अल मज़रूही जो खुद रिटायर्ड सिविल सेवक ह। उन्होंने कहा है कि हमनेघर वापस जाने के लिए इन लोगो के लिए 300 से अधिक भरतीय ओर पाकिस्तानी निवासियों के लिए एयरलाइन का भुगतान किया है। मस्कट में अलग अलग मोहल्ले में 12 अलग अलग लोगो द्वारा पैसे को एकत्रित किया है।

oman news

इनमे मस्कट में रहनेवाले फल और सब्जी विक्रेता विजय कोशी भी शामिल है। जिन्हें जुलाई के महिने में अपनी दुकान बन्द करने के लिए कहा गया था। को’रो’ना की वजह से आई म’हा’मा’री को लेकर हर छोटे से बड़े दुकानदारों को इसका झटका लगा है। को’रो’ना में सबसे पहले सोशल डि’स्टें’टिंग का खास ख्याल रखना है। इससे भी नोकरियों, कम्पनियों ओर काफी असर पड़ा है।

Leave a Comment