हज 2020 की बेहद खुबसूरत तस्वीरें, अराफात पर रोतें हुए हाजियों ने माँगी उम्मते मुस्लिमां के लिए दुआ

इस साल ह’ज बिल्कुल अलग है और सभी मु’स्लि’म लोगों के लिए ये ख़ुशी की बात है कि को’रो’ना म’हा’मा’री के बीच भी ह’ज हो रहा है। ह’ज करना मु’स्लिम समाज के लोगो पर फर्ज है। को’रो’ना म’हा’मा’री के बीच इस साल ह’ज करने में और ह’ज या’त्रा में बदलाव किए गए है। हा’जि’यो का का’फि’ला बीते दिनों से म’क्का, मी’ना और अब अ’रा’फा’त के मैदान में पहुँच गया है। सभी हा’जि’यो ने जोह’र और अ’सर की न’मा’ज अ’रा’फात के मैदान में ही अदा की है।

अ’रा’फा’त के मैदान में ही जबल अल रहमा’न पहाड़ी जिसे गारे हीरा भी कहा जाता है वहा पर सभी हा’जियो का काफिल पहुँचकर अल्ला’ह से दुआ की। इसके साथ ही सोश’ल डि’स्टेंटिं’ग का भी ध्यान रखा गया। हाजि’यो ने वहां पहुँचकर अल्ला’ह से रो रो कर दु’आ मांगी। ये तस्वीरें सोशल मीडिया और वा’इर’ल हो रही है इसे देखकर दुनियाभर के सभी मु’स्लिम लोग भी रो’ने लगे और आमीन कहने लगे।

photos arafat day

9 जिह्हिज को ग़ु’स्ल करके अ’रा’फा’त के मैदान की तरफ र”वाना होते है। वहां पर शाम तक ठहरते है। अराफात के मैदान का न’जारा बेहद ही ख़ू’नसुरत लगता है। कोई गोरा , काला, कोईछोटा और बड़ा नही होता है सभी एक साथ खड़े होते है। सबकी जुबानों पर सिर्फ अ’ल्ला’ह का नाम होता है। सब तारीफे अल्लाह ही के लिए है। हम सब उसी के बन्दे है और उसी की पुकार पर इसके दर पर हाजि’र है।

अ’राफा’त में जोहर और असर की न’माज एक साथ पड़ी जाती है सूरज डूबने के बाद मुज’द’फ़ल की तरफ रवाना हो जाते है। वहां ओर मगरिब और ईशा की नमाज एक साथ पड़ी जाती है। रात में सभी हाजी मुज’दफ़ल में ही रहते है। बता दे कि 10 जिल्हिजह को फज्र की नमाज के बाद मीना की तरफ रवाना होते है।

photos arafat day

दोपहर से पहले मीना में पहुँचकर जमरा में सात बार कांकरिया शै’ता’न को फेंकते है। फिर कु’र्बा’नी करके सि’र के बाल कटवाते है और फिर एहराम उतारकर अपने कपड़े पहन लेते है। । मीना में सभी हाजी 12 जिह्हिज तक रहते हैं। जिल्हिजह की 12 तारीख खत्म होते ही ह’ज पूरा हो जाता है। खाना ए का’बा को जियारत के बाद प्यारे रसू’ल की म’स्जिद में न’माज पड़ते है।

Leave a Comment