इतिहास में पहली बार पॉप फ्रांसीस पहुंचे यह मुस्लिम देश, ईसाई धर्मगुरु बोले- मुसलमानों की …

पॉप फ्रां’सिस को’राना के बाद अब विदेश यात्रा पर गए है। यह उनकी लो’क डा’उन के बाद पहली ही यात्रा है। पॉ’प फ्रांसि’स ने शि’या समु’दा’य के सबसे वरिष्ठ ध’र्मगुरु’ओं में से एक अयातु’ल्ला अली अल सिस्ता’नी से बीते दिन ही इरा’क के नज फ शहर में मुलाका’त की है।

इस दौरान दोनों धर्मगु’रुओं ने कई मुद्दों पर बातचीत भी की है। पॉप का स्वागत करने के लिए लोग पारम्प’रिक प’रिधा’नों में अपने घ’रों के बाह’र भी खड़े थे। शां’ति के प्र’तीक के तौर पर कुछ स’फेद कबू’तर भी उड़ा’ए गए थे।

iraqs top shia cleric

बता दे कि अल सिस्ता’नी शि’या बहु’ल इ’राक मै प्रमुख धर्म’गुरु है। इसके अलावा भी वो मज’हबी और अन्य मा’मलो पर दु’निया’भर में शि’या समु’दाय के लोग उनके वि’चारों को मानते है।

नजफ के निवा’सी हैदर अल इलय’वी ने कहा है कि हम इराक में नकफ में आने और ध’र्मगुरु अया’तुल्ला अली अल सि’स्तानी के साथ पॉप कि मुला’कात का स्वागत करते है। यही ऐतिहा’सिक दौरा बताया भी जा रहा है। इराक के ईसा’इयों कि र’क्षा में धा’र्मि’क अधि’का’रियों ने भी भू’मिका निभाई है।

pope francis 2021

वेटिकन ने कहा है कि फ्रांस के हालिया इति’हास के सबसे हिं’स’क स्म’यो केदौ’रान फ्रां’सिस ने सबसे क’मजोर और सबसे सता’ए गए लोगो कि र’क्षा में अपनी आवा’ज उठाने के लिए अल सि’स्तानी को धन्य’वाद भी दिया है।

Leave a Comment