सबसे कम उम्र के IPS सफीन हसन, कहते हैं- जीने का मज़ा आएगा तब मौत की उंगलियां पकड़के भागा जाए

देश मे सबसे कम उम्र का आईपीएस ऑफिसर बनने वाला सफीन हसन का नाम तो सुना ही होगा। यह वही नाम है जिसने साल 2018 में भारतीय पुलिस सेवा में बैच में अपना नाम रोशन किया है। इन दिनों सफीन हसन भावनगर के सहायक अधीक्षक के पद पर तै’नात है।

अपनी ड्यूटी को वो सत्य सेवा भी कहते है। हसन एक साधारण मुस्लिम परिवार से भी ताल्लुक भी रखती है। हसन बताते है कि उनका बचपन से ही यह सपना था कि वो ऑफिसर बनगे। इसके लिए उन्होंने अपनी प्रारंभिक पढ़ाई के दौरान ही तैयारी को भी जारी रखा।

safin hasan gujarat cadre ips officer 2018

उनकी माँ दूसरे घरों में रोटियां बतानी थी। उनके पिता अंडे बेचने का और चाय का ठेला भी लगाते थे। हसन के सफर में ऐसे कई दिन भी आए है जैसे कोई ला’वा’रिस ब’च्चे ने भी झेला है। उन्हें कई बार भू’खा भी रहना पड़ता था ।हसन ने कहा है कि उन्होंने साल 2016 में तैयारी को शुरू किया था। उन्होंने इसके बाद यूपीएससी और जीपीएससी की परीक्षा को दिया है।

उन्होंने गुजरात मे पीएससी में भी सफलता हासिल की है। उन्होंने मु’श्कि’लों में जू’झते वक्त साल 2017 में यूपीएससीएग्जम में 570 वी रैंक को हासिल किया है और आईपीएस का सफ’र भी तय किया है। उन्होंने अपनी पक्तियों में कहा है कि जिंदगी जीने का मजा जब भी आएगा जब मौ’त की उं’गलियां पक’ड़ के भी भागा जाएगा।

safin hasan gujarat cadre ips officer 2018

सोशल मीडिया हैंडिल से ली गई चुनिंदा पंक्तिया – जलते है चिराग की लौ से कई चिराग दुनिया तेरे ख्याल से रोशन हुई तो है। मंजिल पांव पकड़ती है ठहरने के लिए शौक कहते है दो चार कदम और …. । तुम खेल के पीछे के खेल में कभी न उलझना। … यह चीन लेगा तुमसे खेल का आनंद। जिंदगी जीने का मज़ा तब आएगा जब मौत की उंगलिया पकड़ कर भागा जाए।

Leave a Comment