समीर वानखेड़े का निकाह कराने वाले काजी मुजम्मिल आए सामने,बोले- मुस्लिम है समीर तभी तो ..

ना/रको’टिक्स कंट्रोल यूनिट के मुम्बई जोनल डाय’रेक्टर समीर वानख’ड़े के नि’काह से जुड़े हुए कई सवाल नबाव मलिक के दावे के बाद अब ऐ काजी सामने आए है। काजी मुजम्मिल अहमद का कहना है कि उन्होंने ही समीर वानखड़े और शबाना नाम की लड़की का निका’ह भी क’रवाया था।

उन्होंने आगे कहा है कि महारष्ट्र के मंत्री नवाब मलिक ने जो नि’काहनामा को शेयर किया है वह पूरी तरह से असली है। काजी मु’जम्मिल अहमद ने कहा है कि मैने निकाह पढ़ाया था। निकाहनामा बिल्कुल सही है। उस वक्त समीर, शबाना पिता सब मुसलमान थे। काजी बोले अगर समीर हि’न्दू होते

sameer wankhede nikanama kazi muzammil ahmed

तो निकाह ही नही होता क्योकि श’रीयत के हि’साब से ऐसा नही हो सकता। श’रीयत के खि’ला’फ जाकर काजी निकाह को नही पढ़ा’ता है। आज वह कुछ भी कहे उस वक्त समीर मुसलमान थे। काजी ने कहा है कि साल 2006 में बड़ीसी जगह पर शादी भी हुई थी।

जिसमे करीब 2 हजार लोग भी शामिल हुए थे। जिसमें कई हाई प्रो’फ़ाइल लोग भी शामिल थे। काजी ने कहा है कि व्यवस्था होने के बाद में निकाह को करना भी पहुँचा था। इसके बाद फिर 15 मिंट के अंदर ही निकाह को पढ़वा दिया गया। इस बात का दावा किया गया है कि

sameer wankhede nikanama kazi muzammil ahmed

समीर वानखेड़े का नि’काह पूरी तरह से इस्लामी तौर तरीके से भी हुआ था। नबाव मलिक ने लिखा था कि साल 2006 में 7 दिसम्बर, बीते दिनों ही 8 बजे समीर दाऊद वानखेड़े औरशबाना कुरेशी के बीच निकाह भी हुआ था।

Leave a Comment

close