CAA : शा’हीन बा’ग की म’हिलाओं में दुगुना जोश भर रहा कै’लाश खै’र का ये गाना, जानिए

देशभर में C A A के ख़ि’ला फ़ लगा तार प्रदर्शन जारी है। इस आं’दो’लन में महि’लाओं का बड़ा योगदान भी है । बता दे, म’हीने भर से ज्यादा समय से दिल्ली के शा’ही’न बाग की बू’ढ़ी दादिया ,माँ और बहने 24 घण्टे धर’ना स्थल पर बैठकर ना’गरि’कता का’नून के ख़ि’ला’फ़ प्र’दर्श’न कर रही है । शा’हीन बा’ग के प्र’द’र्शन में हर उम्र की महि’लाएं नज़र आ रही है जिनका ये अनोखा प्रद’र्शन पूरे देश मे ही नही अ’पितु पूरे वि’श्व में फै’ल गया है ।

यहां पर बैठी महि’लाओं की एन’डीटीवी ने कई स्टो’री कवर की गई जिसमें दादि’यों की बहा’दुरी को सरा’हा गया । आपको बता दे ,आज शा’हीन बा’ग की औ’रते पूरे देश मे चल रहे आंदोलन की एक मुख्य चे’हरा बना गई है, आज ये म’हिलाएं दे’श के लिए हौ’सला है। इन महि’लाओं के ज’ज़्बे को स’लाम करने केलि’ए शायरी लि’खी और बोली जा रही है । वही शा’हीन बा’ग की औरतों को स’लाम करता एक वीडि’यो भी सामने आया है जो बहुत ते’ज़ी से वा’यर’ल हो रहा है ।

इस ‘गाने के बोल है ‘”मौ’ला मेरे तू दे दे खु’शी’ , यह गाना ‘कै’लाश खैर की ‘आवाज में है । इस गीत के बोल शा’हीन बा’ग की महि’लाओं ‘को सला’म करते है , उन्हें स’लाम करते है । आपको इस गी’त को सुनने के बाद ऐसा लगे’गा कि यह गी’त अ’भी गाया गया है लेकिन ये गीत बहुत पहले गा’या जा चु’का है ।

यह गीत पा’किस्ता’नी एक्टि’विस्ट म’ला’ला यू’सु’फजई पर बन रही फिल्म गुलम’कई का है । यह गीत म’ला’ला के ज़ज्बे को स’लाम करता है । इसी तरह से गीत शाही’न बा’ग की और’तों के ज’ज़्बे को भी स’ला’म करता है ।इस गीत को लिखा है फ़िल्म गु’लम’कई के निर्देशक अ’मज़’द खा’न ने । और इसे ही उन्होंने संगी’त दिया है ।

आपको बता दे,फिल्म डॉ’यरेक्टर अम’ज़द खान लगातार ना’गरि’क’ता कानू’न का वि’रो’ध कर रहे है । वह एक ट्वीट के जरीरे भी वि’वा’द में आए थे । उन्होंने कहा था कि फ़िल्म से पहले उनका देश है । यह फ़िल्म 31 जनवरी को रिलीज़ होगी । आपको बता दे, लंदन में ये फ़िल्म पहले ही आ चुकी है जहां इस फ़िल्म को खूब सराहा गया था । अब देखना होगा कि यह फ़िल्म 31 जनवरी को कैसा प्रदर्श’न कर पाती है।

Leave a Comment

close