अंग्रेजो को लूट गरीबों की मदद करता था ये योद्धा, अंग्रेजो ने नाम दिया ‘इंडियन रॉबिन हुड’

भारतीय इतिहास में एक से बढ़कर एक यो’द्धा भी हुए है। देश की खतिर इन क्रां’ति’कारियों ने अपने प्राण तक न्योछा’वर भी कर दिए है। 1857 की क्रांति से पहले देश की आजा’दी में कई क्रांति’का’रियों ने अंग्रे’जो के खिला’फ अपने तरीके से जंग भी लड़ी थी। अं’ग्रे’जो के खि’लाफ जं’ग ल’ड़ने वाले एक

क्रां’तिकारी तांत्या भील भी थे। तांत्या भील का जन्म 1840 के करीब मध्यप्रदेश के खंडवा में हुआ थ। तांत्या भील का असली नाम तंद्रा भील था। वो एक ऐसे वी’र यो’द्धा थे जिसकी वी’र’ता को देखते हुए अंग्रे’जो ने उन्हें इं’डियन रो’बिन हु’ड नाम दिया था।वो भील जन’जाति के एक ऐसे यो’द्धा थे जो अंग्रे’जो

tantya bhil the warrior

को लूट’कर ग’री’बो की भू’ख मिटा’ने का काम भी किया करते थे। तां’त्या ने ग’रीबो पर अंग्रे’जो की शो’षण नी’ति के खि’ला’फ आ’वाज भी उठा’ई थी। जिसके चलते वो गरीब आ’दि’वासि’यों के लिए मसीहा बनकर उभरे है। आज भी मध्यप्रदेश और छत्तीसगढ़ के कई

आ’दि’वासी घ’रों में त’न्त्य भी’ल की पू’जा भी की जाती है।तां’त्या भी’ल केवल वीरता के लिए नही बल्कि सा’माजि’क का’र्यो में ब’ढ़ चढ़क’र हिस्सो लेने के लिए भी जाने जाते थे। उन्होंने ग’रीबी अमी’रों को भे’द ह’टाने के लिए हर तरह के प्रया’स को भी किया है। इसलिए वो

tantya bhil the warrior

आ’दिवा’सी ‘स’मुदाय के बीच मामा के रूप में भी जाने लगे है। आज भील जन’जाति के लोग उन्हें तां’त्या भी’ल कहला’ने वाले के लिए भी जानते है। तांत्या भील गुरि’ल्ला यु’द्ध नी’ति के तहत अंग्रे’जो पर ह’म’ला करके किस भी परिं’दे की तरह ओझ’ल हो जाते थे।

Leave a Comment