बिहार नेता उपेंद्र कुशवाहा का बड़ा बयान – ‘मैं इस्लाम कुबूल कर लू तो मुझे कौन रोक लेगा’

बिहार में इन दिनों ध’र्म प’रिवर्तन को लेकर रा’जनी’ति में काफी ते’ज हो रही है। जेडीए सासदिय बोर्ड के अध्यक्ष उपेंद्र कुशवाह का कहना है कि अपनी इच्छा से किए जाने वाले ध’र्म परि’वर्तन को कोई भी नही रो’क सकता है। उनका कहना है कि अगर उनका मन इ’स्ला’म कु’बू’ल करने का है तो उन्हें

कोई भी न’ही रो’क सकता है। कु’शवाह का कहना है कि यह सभी लोगों का संवैधनिक अधिकार है। किसी के द’बाव में आ’कर क’भी भी ध’र्म न’ही बदलना चाहिए। उपें’द्र कु’शवाह ने यह भी साफ किया है कि अगर कोई अपनी मर्जी से ध’र्म बदलना चाहता है तो उस कोई भी न’ही रो’क सकता है।

upendra kushwaha islam

यह बात उन्होंने दो दिन के ब’क्सर दौरे पर मीडि’या से बात करते हुए बताया है। उन्हीने अपनी इस यात्रा का उद्दे’श्य जन’ता और सरका”र के बीच ना’रा’जगी ख’त्म करना भी बताया है ।इसके अलावा उन्होंने जा’तिगत जन’संख्या के बारे में भी कहा है कि यह जेडी’यू की पुरा’नी मांग भी रही है।

सीएम नीतीश इसके पक्ष में है। पार्टी किसी भी कीम’त पर इस मांग से पीछे भी नही हटेगी।उपेंद्र कु’शवाह ने की है कि बिहार में अं’तिम जाती’य जनग’णना 1931 में हुई थी। तब से अब तक जाती’य जनग’णना भी न’ही हुई है। इसलिए सर’कार सं’ख्या नही बता ‘पाती है कि

upendra kushwaha islam

कुशवा’हा ने कहा है कि जेडी’यू और बी’जे’पी दो अलग अल’ग पार्टि’यां है । इन दोनों के नी’ति और सि’ध्दांत भी अलग है। जेडीयू जाती’गण जनग’णना के पक्ष में है।

Leave a Comment