वसीम रिजवी ने इ’स्ला’म छोड़ने के बाद बोले- मंदिर से मिली ऊर्जा, उलेमा का पलटवार बोले- वह पहले ही ….

उत्तरप्रदेश के प्रमुख शिया चेहरों में रहे वसीम रिजवी इ’स्ला’म धर्म को छोड़’कर आज से हि’न्दू ध’र्म मे शामिल हो गए है। आज गजियाबाद में यति नरसिहंनन्द सर’स्वती ने स’नात’न ध’र्म में उनको शामि’ल कराया है। वसी’म रिज’वी ने कहा कि मु’झे इ’स्ला’म से बा’हर कर दिया गया है।

हमारे सिर पर उर शु’क्रवार को इना’म बड़ा दिया जाता है आ ज मै सना’तन’ध’र्म को अपना रहा हूँ। वसी’म रि’जवी ने इस मौके पर ध’र्म प’रि’व’तर्न की यहां कोई बात नही है। जब मुझे इ’स्ला’म से नि’काल दिया गया तो फिर मेरी मर्जी है कि मैं कौन सा ध’र्म स्वी’कार करू।

wasim rizvi news 2021

स’ना’त’न ध’र्म दु’निया का सबसे पह’ला ध’र्म है। जित’नी उसमें अ’च्छा’इ’यां पाई जाती है और किसी ध’र्म’ मे न’ही है। इ’स्ला’म को हर ध’र्म ही नही समझते। हर जु’मे को हना’रा सि’र ”का”ट’ने के लिए फ’तवे दिए जाते है। तो ऐसी परि’स्थि’ति में हमे कोई मुस’ल’मा’न कहे हमे श’र्म आती है।

शिया सेंट्रल वक्फ बोर्ड के पूर्व चेय’रमैन वसीम रिजवी ने ऐलान किया था कि वह इ’स्ला’म को छो’ड़क’र हि’न्दू ध’र्म को अ’पना जा रहेहै। उन्होंने कहा था कि डा’स’ना की दे’वी मंदि’र के यति नर’सि’हं’नन्द स’रस्व’ती उन्हें स’ना’तन ध’र्म मे शामिल करेंगे।बता दे कि पिछले दिनों ही व’सीम रिज’वी ने अपनी वसी’यत को सार्व’ज’निक किया था।

wasim rizvi news 2021

इसमें उ’न्होंने इस बात का ऐला’न किया था कि उनको म’र’ने के बाद द’फ’ना’या न’ही जाए बल्कि हि’न्दू री’तिरि’वा’जों से उनका अं’तिम सं’स्का’र किया जाए। उ’लेमा ने इस पर प्र’तिक्रि’या देते हुए क’हा कि वह पहले ही इ”स्ला’म से ख़ा’रि’ज हो चुके थे। वह आ”ज़ा’द थे कहि भी जाए कोई फ़’र्क़ न’हीं पड़ता।

Leave a Comment

close