पै’गम्बर मो’हम्मद (स.अ.व.) की शिक्षा से प्रभावित होकर बॉक्सर विल्हेम ओट ने कुबूल किया इ’स्लाम ध’र्म, बोले-मु’स्लिम होने पर गर्व और …..

इ’स्लाम ध’र्म को अपनाने वालो के संख्या बढ़ती जा रही है इ’स्ला’म ध’र्म को अपनान वाले कई स्टार भी है तो कोई आम आदमी भी है। जिन लोगो ने इस्ला’म ध’र्म को कु’बूल किया है उनका मानना है कि इस्लाम धर्म असल जिंदगी से रूबरू कराता है । जिन्होंने इस्ला’म ध’र्म कु’बूल किया है उनसे से लगभग सभी ने मानां है कि इस्लाम शांति का धर्म है, एक सच्चा धर्म है।

इस्ला’म ध’र्म अपनाने वालो में वैज्ञानिक भी बड़ी तादाद में ,इसकी वजह वैज्ञा’निक की रिसर्च में इ’स्लाम ध’र्म की पवित्र किताब क़ुर’आन शरी’फ से काफी मदद मिलती है और इसमे लिखी सभी बांते जब सच होती है तो इस्ला’म को समझ’ने वाला इस्लाम कुबू’ल करता हुआ दिखाई देता है ।

आज हम आपको एक कहानी बताने जा रहे है जर्मन के आस्ट्रियन मिक्स्ड मार्शल आर्ट्स के बॉक्सर विल्हेम आर्ट ने इ’स्ला’म को कुबूल कर लिया है। इन्होंने इ’स्ला’म ध’र्म को 16 अप्रैल को कुबूल करलिया था। उन्होंने बताया है कि कोविड 19 के संकट में इ’स्ला’म में पूरा विश्वास खोजने में मदद की है।

उन्होंने इस बात का जिक्र इंस्टाग्राम अकाउंट पर पोस्ट किया और कहा कि इस्लाम कई सालों से उनके दिमाग मे है। उन्होंने कई बार ऐसा सोचा था लेकिन वो नही कर पाए।आगे कहा कि मैंने खुद को राजनीतिक रूप से प्रभावित होने दिया। जब मेरे पास बहुत मुश्किल समय था।

इ’स्ला’मिक विश्वास ने मुझे जरूरी ताकत दी। बॉक्सर ने पोस्ट में शाहदा पड़ा और इस्लाम के पांच अरकानो में से एक के साथ अपना वीडियो अपलोड किया।ओट ने कहा, मेरा भरोसा अब और काफी मजबूत हो गया है अब मैं सच्चे र’ब को पहचान भी सकता हूं। अब मैं गर्व से कह सकता हूं कि मैं एक मु’स्लि’म हूं।

रमजा’न महीने के शुरुआत से पहले ओट ने इस्ला’म ध’र्म को आप अपनाया है। रम’जान महीने की शुरुआत 25 अप्रेलसे हुई थी। रम’जान के म’हीने में नमाज से लेकर अल्ला’ह की इबा’दत करते है। कोरोना की वजह से म’स्जि’दें में कम ही लोगो को इ’जाजत दी गई है सभी लोग अपने अपने घरों पर न’माज अदा कर रहै है।

Leave a Comment

close