जूनागढ़ के नवाब महाबत खान के इस शौक़ के आगे अम्बानी, अडानी कुछ भी नहीं थे , जानिए

हम आज आपको जूनागढ़ के नवाब की नवाबी के बारे में बताने जा रहे है। ऐसे तो आपने कई नवाबो के बारे में पड़ा होगा लेकिन इन जूनागढ़ की नवाबी के आगे सभी फ़िके नजर आते है । इनकी कुछ अलग ही कहानी है, तो चलिए शुरू करते है।इन जूनागढ़ के नवाब का नाम महाबत खान था । इन नवाब को कुत्ते पालने का बहुत शौक था । उसके कुत्ते जहाँ पर रखे जाते थे वहां पर उस वक्त में भी बिजली और फोन की सुविधा होती थी।

इसके साथ ही उनकी देखरेश में 24 घण्टे नोकर भी होते थे। अगर कोई कुत्ता म’र भी जाता था तो उसको क’ब्रि’स्तान में पूरे रिवाजो के साथ मे द’फन किया जाता था। उन कुत्तों को लिए संगमरमर के म’कबरे भी बनाए जाते थे। इतिहासकारों के मुताबिक खान ने जब अपने पसंदीदा कुत्ते की शादी क़री तो उसकी शादी में करीब 9 लाख रुपए खर्च हुए थे।

इन पेसो से जूनागढ़ की तत्कालीन 6,20,000 आबादी में से करीब 12,000 लोगो की साल भर की सभी जरूरतों को पूरा किया जा सकता था। इतिहासकार डॉमिनिक लोपियर और लैरी कोलिन्स ने अपनी किताब फ्रीडम एट मिडनाइट में भी म’हाबत खा’न के इस शोक का जिक्र किया है। उन्होंने अपनी किताब में लिखा है कि खान ने धूमधाम से कुत्ते की शादी की थी।

इस शादी का न्योता भारत के राजा और महाराजाओं और अमीरों को भेजा था। न्योता वाय सराए को भी भेजा गया था लेकिन उन्होंने शादी में आने से इनकार कर दिया था। लोपियर ओर कोलिन्स के मुताबिक इस शादी में करीब डेढ़ लाख लोग शामिल हुए थे।

Leave a Comment

close