25 सालों से भारतीय प्रवासी कर रहे मस्जिद-अल-नबवी की खिदमत, सऊदी सरकार दे चुकी है ईनाम

हर इंसान का अलग अलग ध’र्म होता है कोई हिं’दू है तो कोई मु’स्लि’म, कोई सिख है तो कोई ईसाई। सभी ध’र्मो के इबा’द’तगाह भी अलग होते है। मु’स्लि’म स’मु’दाय से आने वाले लोगो मे स’ऊदी अर’ब में स्थित मस्जि’दे न’ब’वी और म’स्जि’दे अ’ल ह’र’म है । जहां पर हर मुसल’मान’ जाने का तलबगा’र होता है। सऊदी अरब एक पवि’त्र जगह है जहाँ पर अ’ल्ला’ह का घ’र है , इ’बाद’त की जाती है, ह’ज किया जाता है और अल्ला’ह से गु’ना’हों की तौ’बा की जाती है।

सऊदी अर’ब में चो’री करने वालो की भी ‘स’ख्या स’जा है। सऊदी अरब मक्का ओर मदीना शरीफ में हजारो सफाई’कर्मी साफ सफाई करते है और देखरेख का काम भी करते है। इन स’फाई’क’र्मियों में सबसे ज्यादा भार’त और पा’किस्तान के प्रवास ही शामिल है। हाल ही में सोश’ल मीडि’या पर एक फोटो काफी’ वा’य’रल हो रहा है। जो भारत के रहने वाले हाजी सरताज है। उन्हें हर कोई सम’मा’नित भी कर रहे है।

masjid al haram

क्योki वह इतनी ज्यादा उम्र में भी मदीना शरीफ की म’स्जिदे अ’ल नब’वी की पिछले 25 सालों से कार्य कर रहे है और साथ ही अल्लाह के घर मे सफाईकर्मी के रूप में कर रहे है।जहाँ पर जाने के लिए हर कोई आस मे रहता है।उनका यह फोटो काफी पसन्द किया जा रहा हैइसके साथ ही उनको सम्मान भी दिया जा रहा है।

आपको बता दे किइससे पहले कई बार सऊदी सरकार द्वारा भी सरताज के काम को तारीफ मिल गई है इतना ही नहीकई बार अल सुदेस ने भी उनकी तारीफ की है। कोरोना की वजह से ऐसे कई लोग है जिनका रोजगार छीन गया है वही कई प्रवासियों को अपने अपने घरों पर भेज दिया गया है।

masjid al haram

को’रो’ना की वजह से इस साल हज रुका तो नही लेकिन इस साल हज करने वालो की संख्या को कम कर दिया गया था जिससे संक्र’म”ण का खत’रा न फै’ले। स’ऊदी सर’का’र ने इस साल 10,000 लोगो को ही हज करने को अनुमति दी गई थी। इनमे सऊदी के रहने वाले नागरिक ओर प्रवासी ही शामिल थे।को’रो’ना की वजह से सभी तरह कि अंतराष्ट्रीय उड़ानों को भी रद्द कर दिया गया था।

Leave a Comment

close